Saturday, March 28

एनआरएआई ने कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए निशानेबाजों से कहा, देश में ही करो ट्रेनिंग

नयी दिल्ली, (भाषा)। भारत के राष्ट्रीय निशानेबाजी महासंघ ने बुधवार को कहा कि कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए वह अपने निशानेबाजों को ट्रेनिंग के लिये विदेश जाने की अनुमित नहीं देगा और अगर स्वास्थ्य संबंधित जोखिम होता है तो वह अप्रैल में होने वाली तोक्यो ओलंपिक परीक्षण प्रतियोगिता से हटने में भी हिचकिचायेगा नहीं। भारतीय निशानेबाजों को 16 से 26 अप्रैल तक जापान की राजधानी में होने वाली ओलंपिक परीक्षण प्रतियोगिता में भाग लेना था। यहीं पर इस साल जुलाई-अगस्त में ओलंपिक की इस स्पर्धा की मेजबानी की जायेगी। भारतीय राष्ट्रीय राइफल संघ (एनआरएआई) के अध्यक्ष रनिंदर सिंह ने बुधवार को कहा, ‘‘हमने अपनी परीक्षण प्रतियोगिता के लिये टीम चुन ली है लेकिन हमें अभी फैसला करना है। मैं इनमें से किसी भी बच्चे को भेजने का जोखिम नहीं लूंगा। अगर हमें भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) या अंतरराष्ट्रीय महासंघ से कोई सलाह मिलती है तो हम तोक्यो में इस परीक्षण प्रतियोगिता में भाग लेने का जोखिम नहीं लेंगे। ’’
उन्होंने कहा, ‘‘हम इस वायरस के कारण अपने निशानेबाजों को विदेशों में ट्रेनिंग के लिये भी भेजने की अनुमति नहीं दे रहे हैं। अगर परीक्षण प्रतियोगिता में कोई भी एक निशानेबाज संक्रमित हो जाता है तो हम उसे बड़े खतरे में डाल देंगे क्योंकि फिर वह निशानेबाज ओलंपिक में भाग नहीं ले पायेगा जिससे हमारे पदक जीतने का मौका कम हो जायेगा। ’’ चीन में कोरोना वायरस संक्रमण की शुरूआत हुई जो अन्य देशों जैसे जापान, दक्षिण कोरिया और इटली में भी फैल चुका है।