Thursday, September 19

बीते दिनों की बात हो सकते हैं शैंपू-तेल के छोटे प्लास्टिक पाउच

छोटी-छोटी प्लास्टिक की बोतलों के इस्तेमाल पर भी रोक लगाने का सुझाव

नई दिल्ली, एजेंसी। शैंपू, तेल व अन्य सामग्रियों के छोटे-छोटे प्लास्टिक पाउच जल्द ही बंद हो सकते हैं। एनजीटी में पेश रिपोर्ट में विशेषज्ञ समिति ने महज एक बार इस्तेमाल होने वाले शैंपू, तेल आदि सामग्रियों के प्लास्टिक पाउच को पर्यावरण के लिए खतरनाक बताते हुए इस पर प्रतिबंध लगाने की सिफारिश की है। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल में अपनी रिपोर्ट पेश करते हुए समिति ने पानी की छोटी-छोटी प्लास्टिक की बोतलों के इस्तेमाल पर भी रोक लगाने का सुझाव दिया है। समिति ने कहा है कि एक बार प्रयोग होने वाले प्लास्टिक के पाउच का कूड़ा न सिर्फ उठाने में दिक्कत होती है बल्कि इसके उचित निपटारे में भी परेशानी होती है। समिति ने इसकी जगह बायो-प्लास्टिक और पॉली लैक्टिक से बने बायो-डिग्रेडबल प्लास्टिक के इस्तेमाल करने का सुझाव दिया है।
मई में गठित की गई थी समिति
एनजीटी ने हिम जागृति वेलफेयर सोसायटी की याचिका पर मई में भारतीय खाद्य सुरक्षा मानक प्राधिकरण के मुख्य कार्यकारी अधिकारी की अगुवाई में विशेषज्ञ समिति का गठन किया था। देशभर में हो रहे प्लास्टिक के अत्याधिक इस्तेमाल पर अपना सुझाव और इसके नियमन के उपाय बताने के लिए कहा था। समिति ने जून, जुलाई व अगस्त माह में खाने-पीने से लेकर सौंदर्य प्रसाधन, दवाइयां, कपड़े आदि बनाने वाली राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय कंपनियों के कई प्रतिनिधियों के अलावा पर्यावरण विशेषज्ञों, गैर सरकारी संगठनों के साथ कई दौर की बैठकों बाद रिपोर्ट तैयार करके एनजीटी में पेश किया है।
नियमन की जरूरत
समिति ने कहा है कि देश में प्लास्टिक के अत्याधिक इस्तेमाल पर रोक लगाने और इसके नियमन की जरूरत है। रिपोर्ट में प्लास्टिक कचरे का निपटारा तय नियमों के अनुसार प्रभावी तरीके से करने का सुझाव दिया गया है।
प्रोत्साहन व दंड लगाने का सुझाव
विशेषज्ञ समिति ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि सभी क्षेत्र की कंपनियों को अपने सामानों की पैकेजिंग के तरीकों में बदलाव कर प्लास्टिक के इस्तेमाल को कम करना चाहिए। सरकार व अन्य संबंधित निकायों को उन कंपनियों को प्रोत्साहन देने को सुझाव दिया है जो नए तरीके से प्लास्टिक के इस्तेमाल को कम करते हैं। दूसरी तरफ पैकेजिंग में अत्याधिक प्लास्टिक का इस्तेमाल करने वालों पर दंड लगाने का भी सुझाव दिया है।
बांस से बने उत्पादों के इस्तेमाल को बढ़ावा
समिति ने प्लास्टिक के इस्तेमाल को कम करने और इसके विकल्प और पर्यावरण हितैषी चीजों को बढ़ावा देने की वकालत की है। विशेषज्ञ समिति ने अपनी रिपोर्ट में बांस व लकड़ी से बने बर्तनों और पत्तियों से बनी प्लेट व दोनों का इस्तेमाल करने का सुझाव दिया है। इसके अलावा जूट व कपड़े के थैले प्रयोग करने का सुझाव दिया है।
अपनी रिपोर्ट में कहा है कि खाद्य पदार्थ, पेय पदार्थ, सौंदर्य प्रसाधन और दवाइयों के अलावा कपड़ों की पैकेजिंग में प्लास्टिक का सबसे अधिक इस्तेमाल होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *