Thursday, September 19

राष्ट्रपति सचिवालय ने विजिटर्स अवार्ड 2019 की घोषणा की

नयी दिल्ली, भाषा। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा मानविकी, कला एवं सामाजिक विज्ञान, भौतिक विज्ञान, जीव विज्ञान और प्रौद्योगिकी विकास में अनुसंधान के लिए जल्द ही विजिटर्स अवार्ड प्रदान किये जायेंगे । राष्ट्रपति सचिवालय ने सोमवार को विजिटर्स अवार्ड 2019 की घोषणा की । राष्ट्रपति भवन की विज्ञप्ति के अनुसार, मानविकी, कला और सामाजिक विज्ञान में अनुसंधान के लिए विजिटर्स अवार्ड पुदुचेरी विश्‍वविद्यालय के एप्‍लाइड साइकोलॉजी विभाग के प्रोफेसर शिबनाथ देब को प्रदान किया जायेगा। उन्‍हें यह पुरस्कार बाल संरक्षण विशेष रूप से बाल शोषण और उपेक्षा, छात्रों के मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य और एचआईवी/एड्स के क्षेत्र में अनुसंधान के लिए दिया जा रहा है। भौतिक विज्ञान में अनुसंधान के लिए यह पुरस्कार जवाहरलाल नेहरू विश्‍वविद्यालय के भौतिक विज्ञान स्‍कूल के प्रोफेसर संजय पुरी को प्रदान किया जायेगा। जीव विज्ञान के क्षेत्र में अनुसंधान के लिए यह पुरस्कार अलीगढ़ मुस्लिम विश्‍वविद्यालय के अंतरविषयी जैव-प्रौद्योगिकी इकाई के प्रोफेसर असदुल्‍ला खान को भारत में एंटी माइक्रोबियल रेजिस्‍टेंस (एएमआर) और एएमआर के फैलने और नियंत्रण की कार्यप्रणाली के लिए प्रदान किया जायेगा । जवाहरलाल नेहरू विश्‍वविद्यालय के नैनोसाइंस के विशेष केन्‍द्र में कार्यरत डॉ. प्रतिमा को संयुक्‍त रूप से यह अवार्ड प्रदान किया जायेगा। डॉ. प्रतिमा ने नैनोबायोसेंसर और नैनोबायोइन्‍ट्रेक्‍शन में उल्‍लेखनीय अनुसंधान किया है।

प्रौद्योगिकी विकास के लिए विजिटर्स अवार्ड त्रिपुरा विश्‍वविद्यालय के माइक्रोबायोलॉजी विभाग में कार्यरत डॉ. शॉन रे चौधरी को प्रदान किया जायेगा । डॉ. चौधरी को यह पुरस्कार बायोफर्टिलाइजर में अपशिष्‍ट जल के रूपांतरण के लिए माइक्रोबियल बॉयोफिल्‍म रिएक्‍टर विकसित करने के लिए दिया जा रहा है।

विज्ञप्ति में कहा गया है कि राष्‍ट्रपति जल्‍द ही घोषित की जाने वाली तारीख को राष्‍ट्रपति भवन में आयोजित समारोह में यह पुरस्कार प्रदान करेंगे।

प्रत्‍येक श्रेणी के लिए सभी केन्‍द्रीय विश्‍वविद्यालयों से अवार्ड प्राप्‍तकर्ताओं के चयन के लिए ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित किये गये थे। राष्‍ट्रपति के सचिव संजय कोठारी अवार्ड चयन समिति के अध्‍यक्ष हैं।

गौरतलब है कि केन्‍द्रीय विश्‍वविद्यालयों में स्‍वस्‍थ प्रतियोगिता और उन्‍हें पूरे विश्‍व की श्रेष्‍ठ प्रक्रियाओं को अपनाने के लिए प्रेरित करने के लिए ये अवार्ड 2014 में स्‍थापित किये गये थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *