Thursday, September 19

लागत में कटौती के लिए बीएसएनएल ने आउटसोर्स कामकाज की समीक्षा की, आय-व्यय अंतर 800 करोड़ रुपये

नयी दिल्ली, (भाषा)। नकदी संकट से जूझ रही सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनी भारत संचार निगम लि. (बीएसएनएल) ने दूसरी कंपनियों को दिये गये कामकाज (आउटसोर्स) को तर्कसंगत बनाने के लिए प्रक्रिया शुरू की है। इससे बीएसएनएल को सालाना 200 करोड़ रुपये तक की बचत हो सकती है। इसके अलावा बीएसएनएल बिजली बिलों को भी तर्कसंगत बनाने का प्रयास कर रही है ताकि लागत में 15 प्रतिशत की बचत की जा सके। बीएसएनएल के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक पी के पुरवार ने पीटीआई- भाषा से कहा कि कंपनी की मासिक आय और व्यय (परिचालन खर्च और वेतन) के बीच का अंतर 800 करोड़ रुपये का है। उन्होंने कहा कि ऐसे में चुनौती कायम है। बीएसएनएल गंभीर नकदी संकट से जूझ रही है और हाल के समय इस साल दूसरी बार कर्मचारियों के वेतन भुगतान में विलंब हुआ है। बीएसएनएल ने सोमवार को कहा था कि उसने कर्मचारियों के जुलाई माह का वेतन जारी कर दिया है। पुरवार ने कहा कि जुलाई माह के वेतन का भुगतान आंतरिक संसाधनों से किया गया है। उन्होंने कहा, ‘‘हम अपने परिचालन खर्च की समीक्षा करेंगे और जहां भी संभव होगा इसमें कमी लाने का प्रयास करेंगे। अभी हम दूसरी कंपनियों को ठेके पर दिये गये कामकाज की समीक्षा कर रहे हैं, जिससे इन्हें सुसंगत बनाया जा सके। हम देखना चाहते हैं कि इसमें से कितना कामकाज ‘इन-हाउस’ किया जा सकता है। पुरवार ने कहा कि कंपनी को उम्मीद है कि इससे सालाना 100 से 200 करोड़ रुपये की बचत की जा सकेगी। उन्होंने कहा कि बीएसएनएल के आउटसोर्स कामकाज में आप्टिकल फाइबर केबल रखरखाव से लेकर केबल की मरम्मत का कामकाज शामिल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *