Wednesday, April 1

Delhi

मोदी-शाह को फेल करते छुटभैये अधिकारी

मोदी-शाह को फेल करते छुटभैये अधिकारी

Delhi, National
आर.के. सिन्हा जब सारी दुनिया कोरोना वायरस से थर्र-थर्र कांप रही है, तब हमारे सामने एक अन्य बेहद विषम परिस्थिति अचानक उत्पन्न हो गई है। इसके कारण कोरोना के खिलाफ लड़ी जा रही जंग भी अचानक से कमजोर पड़ती नजर आ रही है। दरअसल देश में लॉकडाउन की घोषणा होने के दूसरे दिन से ही राजधानी दिल्ली समेत देशभर के एनी राज्यों से प्रवासी मजदूर अपने गांवों की तरफ जाने की तरफ पलायन करने लगे हैं। चौबीस घंटों में ऐसा क्या हो गया कि लाखों मजदूर और उनके परिवार एकदम से भयाक्रांत हो उठे । यह अफवाह कैसे फैली कि अब उनका काम हुआ ख़त्म । तुरंत गाँव जाकर ही किसी तरह अपने और अपने परिवार का पेट पालना होगा । सबसे ज्यादा विकट स्थिति देश की राजधानी दिल्ली की है। धौला कुंआ और आनंद विहार के रास्ते हजारों प्रवासी श्रमिक अपने गांवों की तरफ जुलूस शक्ल में पैदल ही चले ही जा रहे हैं। यह परिस्थिति एकाएक क्यों उत्पन्न हो गई । फि
स्थानीय मांग को पूरा करने के लिए मदर डेयरी ने 250 टन फल सब्जी की आपूर्ति की

स्थानीय मांग को पूरा करने के लिए मदर डेयरी ने 250 टन फल सब्जी की आपूर्ति की

Delhi, National
नयी दिल्ली, (भाषा) मदर डेयरी ने सोमवार को दिल्ली-एनसीआर की स्थानीय मांग को पूरा करने के लिए इस क्षेत्र में स्थित में स्थित अपने खुदरा बिक्री केन्द्र 'सफल' के माध्यम से बिक्री करने के लिए 250 टन फलों एवं सब्जियों की आपूर्ति की है। दिल्ली-एनसीआर में घबराहट में की जाने वाली खरीद का काम बंद हो गया है। सरकार के द्वारा 21 दिनों की रोक की घोषणा के बाद जरुरी उपयोग वाले घरेलू मदर डेयरी ने लगभग 250 टन फलों और सब्जियों की आपूर्ति की। स्थानीय मांग को पूरा करें, जो अब ग्राहकों से बिना किसी घबराहट के खरीद के साथ स्थिर हो गई है। पिछले सप्ताह, मदर डेयरी ने दिल्ली-एनसीआर में फलों और सब्जियों की आपूर्ति को दोगुना बढ़ाकर प्रति दिन 300 टन से अधिक कर दिया था, क्योंकि ग्राहकों ने 21 दिन की देशव्यापी रोक की घोषणा के बाद घरेलू आवश्यक वस्तुओं की अफरा तफरी में खरीद ज्यादा शुरू कर दी थी। मदर डेयरी, जो राष्ट्रीय रा
न्यायालय ने कामगारों के पलायन रोकने के उपायों के बारे में केन्द्र से रिपोर्ट मांगी

न्यायालय ने कामगारों के पलायन रोकने के उपायों के बारे में केन्द्र से रिपोर्ट मांगी

Delhi, National
नयी दिल्ली, (भाषा) उच्चतम न्यायालय ने कोरोनावायरस महामारी के प्रकोप से उत्पन्न दहशत और लॉकडाउन की वजह से बड़ी संख्या में कामगारों के शहरों से अपने पैतृक गांवों की ओर पलायन की स्थिति से निबटने के उपायों पर सोमवार को केन्द्र से स्थिति रिपोर्ट मांगी। शीर्ष अदालत ने टिप्पणी की कि दहशत और भय की वजह से बहुत संख्या में कामगारों का पलायन कोरोनावायरस से कहीं ज्यादा बड़ी समस्या बन रहा है। प्रधान न्यायाधीश एस ए बोबडे और न्यायमूर्ति एल नागेश्वर राव की पीठ ने इस मामले की वीडियो कांफ्रेन्सिग के माध्यम से सुनवाई के दौरान कहा कि वह इस स्थिति से निबटने के लिये सरकार द्वारा उठाये जा रहे कदमों के बीच कोई निर्देश देकर भ्रम पैदा नहीं करना चाहती। पीठ ने कामगारों के पलायन से उत्पन्न स्थिति को लेकर जनहित याचिका दायर करने वाले अधिवक्ता अलख आलोक श्रीवास्तव और रश्मि बंसल से कहा कि इस मामले में वह केन्द्र की स्थि
भारत में अभी सामुदायिक संक्रमण की स्थिति नहीं : सरकार

भारत में अभी सामुदायिक संक्रमण की स्थिति नहीं : सरकार

Delhi, National
नयी दिल्ली, (भाषा) स्वास्थ्य मंत्रालय ने देश में कोरोना के संक्रमण की दर विकसित देशों की तुलना में कम होने की जानकारी देते हुये कहा है कि भारत में अभी इस वायरस के संक्रमण का दूसरा दौर ही चल रहा है, यह अभी सामुदायिक संक्रमण के तीसरे चरण में नहीं पहुंचा है। स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने सोमवार को संवाददाता सम्मेलन में बताया कि भारत में संक्रमित मरीजों की संख्या 100 से 1000 तक पहुंचने में 12 दिन लगे, जबकि इस संकट से जूझ रहे विकसित देशों में इस अवधि में मरीजों की संख्या 3,500 से 8,000 थी। उन्होंने बताया कि देश में अब तक कोरोना के संक्रमण के 1071 मामलों में पुष्टि की जा चुकी है और संक्रमण से मरने वालों की संख्या 29 हो गयी है। अग्रवाल ने बताया कि पिछले 24 घंटों के दौरान पूरे देश में कोरोना के संक्रमण के 92 नये मामले सामने आये हैं। इस अवधि में चार मरीजों की मौत हुयी है, जबकि

आखिर न्यूज चैनल क्यों दिखाते हैं नेताओं के भड़काऊ बयान-भाषण?

Delhi, National
नेशनल एक्सप्रेस ब्यूरो नई दिल्ली। 26 फरवरी को भी न्यूज चैनलों पर नेताओं के भड़काऊ बयान और भाषण प्रसारित होते रहे। वहीं कफ्र्यू के बाद भी दिल्ली में हिंसा का दौर जारी रहा। लापता आईबी अधिकारी अंकित शर्मा का शव भी मिल गया है। हिंसा में अब तक 20 से भी ज्यादा लोगों की मौत हो गई है। देश की राजधानी के हालात कैसे हैं, यह किसी से छिपा नहीं है। सोशल मीडिया पर साम्प्रदायिकता फैलाने की पोस्ट नहीं डालने की अपील की जाती है, लेकिन न्यूज चैनलों पर नेताओं के भड़काऊ भाषण और बयान पर रोक नहीं लगाई जाती। ऐसे नेता खुलेआम एक दूसरे समुदाय के विरुद्ध गैर जरूरी टिप्पणियां करते हैं। नेताओं के बयान न केवल जहरीले होते हैं, बल्कि धार्मिक भावनाओं को भड़काने वाले भी होते हैं। राजनेता तो वोटों के खातिर कुछ भी बोल सकते हैं, लेकिन न्यूज चैनलों की भी तो कोई जिम्मेदारी होगी? जब भड़काऊ पोस्ट सोशल मीडिया पर डालना अपराध

दिल्ली हिंसा पर आरोपों में घिरे ताहिर बोले- अंकित को न्याय मिलना चाहिए मुझ पर लगाये जा रहे हैं झूठे और निराधार आरोप

Delhi
नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून के बाद दिल्ली में भड़की हिंसा और इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) के कर्मचारी अंकित शर्मा की हत्या का आरोप नेहरू विहार से आम आदमी पार्टी (आप) के निगम पार्षद ताहिर हुसैन और उनके समर्थकों पर लग रहा है। ऐसे में अब ताहिर का एक और बयान आया है। उन्होंने कहा है कि आईबी अधिकारी अंकित शर्मा की मौत को लेकर मुझे दुख है। उन्हें न्याय मिलना चाहिए। मैं इस मामले में संलिप्त नहीं हूं। मामले में गहरी जांच होनी चाहिए। गौरतलब है कि आईबी के कर्मचारी अंकित शर्मा (26) के परिवार ने हत्या का आरोप हुसैन पर लगाया है। शर्मा मंगलवार को लापता हो गए थे। बुधवार को उनका शव उत्तर-पूर्वी दिल्ली के दंगा प्रभावित चांद बाग इलाके में उनके घर के पास एक नाले से मिला था। शर्मा के परिजनों ने दावा किया कि उनकी हत्या के पीछे स्थानीय पार्षद और उसके साथियों का हाथ है। हुसैन ने आरोपों से इनकार किया है। उन्होंने

दिल्ली हिंसा पर आरोपों में घिरे ताहिर बोले- अंकित को न्याय मिलना चाहिए

Delhi
नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून के बाद दिल्ली में भड़की हिंसा और इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) के कर्मचारी अंकित शर्मा की हत्या का आरोप नेहरू विहार से आम आदमी पार्टी (आप) के निगम पार्षद ताहिर हुसैन और उनके समर्थकों पर लग रहा है। ऐसे में अब ताहिर का एक और बयान आया है। उन्होंने कहा है कि आईबी अधिकारी अंकित शर्मा की मौत को लेकर मुझे दुख है। उन्हें न्याय मिलना चाहिए। मैं इस मामले में संलिप्त नहीं हूं। मामले में गहरी जांच होनी चाहिए। गौरतलब है कि आईबी के कर्मचारी अंकित शर्मा (26) के परिवार ने हत्या का आरोप हुसैन पर लगाया है। शर्मा मंगलवार को लापता हो गए थे। बुधवार को उनका शव उत्तर-पूर्वी दिल्ली के दंगा प्रभावित चांद बाग इलाके में उनके घर के पास एक नाले से मिला था। शर्मा के परिजनों ने दावा किया कि उनकी हत्या के पीछे स्थानीय पार्षद और उसके साथियों का हाथ है। हुसैन ने आरोपों से इनकार किया है। उन्होंने

दिल्ली हाईकोर्ट में केजरीवाल-सिसोदिया के निर्वाचन को चुनौती देने वाली याचिका दायर

Delhi
नई दिल्ली | दिल्ली हाईकोर्ट में दिल्ली में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप) के राष्ट्रीय संयोजक और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के निर्वाचन को चुनौती देने वाली दो याचिकाएं दायर की गई हैं जिनमें आरोप लगाया गया है कि राजधानी में हाल में सम्पन्न हुए विधानसभा चुनाव में दोनों नेताओं ने चुनावी अभियान नियमों का उल्लंघन किया था। जस्टिस वी.के. राव ने चुनाव में 'आप' नेता सिसोदिया से हारे एक उम्मीदवार की याचिका पर सिसोदिया, चुनाव आयोग की मीडिया प्रमाणन एवं निगरानी समिति (एमसीएमसी) और निर्वाचन अधिकारी को नोटिस जारी कर उनसे जवाब मांगा है। वहीं, केजरीवाल से जुड़े मामले में जस्टिस मुक्ता गुप्ता ने याचिकाकर्ता से कहा कि वे याचिका में टाइपिंग की त्रुटि सुधारें। इस मामले में अदालत ने कोई आदेश नहीं दिया। याचिकाकर्ता प्रताप चंद्र ने आरोप लगाया है कि अरविंद केजरीवाल और मनीष सिसोदि

बुराड़ी के शक्ति एनक्लेव में एमसीडी का शक्ति प्रदर्शन क्षेत्र के लोग फिर से अपने घरों पर नगर निगम के तोड़ फोड़ से सहम

Delhi
सुनील जायसवाल नयी दिल्ली, एजेंसी। बुराड़ी के शक्ति एनक्लेव को एक समय में रहे सिविल लाइन जोन के तत्कालीन डी सी ने ग्रेटर नोएडा से तुलना किया था। ये लाल डोरा है,यहाँ पर आस पास के लोगो को सस्ते घर का अच्छा विकल्प मिला हुआ है। इन दिनों इस क्षेत्र के लोग फिर से अपने घरों पर नगर निगम के तोड़ फोड़ से सहमे हुए है। यहाँ रहने वाले ज्यादतर लोग सरकारी और प्राइवेट नौकरियों से जुड़े हुए है। कई लोग इस तोड़ फोड़ के कारण अपने ऑफिस भी नही जा पा रहे है। हाल ही में नौकरशाही और जनप्रतिधि के बीच मामूली विवाद की वजह से इस क्षेत्र में मोनेटरिंग कमिटी ने नगर निगम को आदेश दे कर व्यापक तोड़ फोड़ करवाया था। अब फिर से तोड़ फोड़ का तलवार शक्ति एनक्लेव के भवनों पर लटका हुआ है। गौरतलब है कि तकरीबन इकतीस भवनों को हाइकोर्ट ने अवैध बता कर निगम को तोड़ने का आदेश दिया हुआ है।जिन भवनों को तोड़ने का आदेश कोर्ट ने दिया है। उन सभी भ

अंकित शर्मा की हत्या के आरोप पर केजरीवाल की खामोशी खतरनाक: गंभीर

Delhi
नई दिल्ली, एजेंसी। दिल्ली हिंसा में इंटेलिजेंस ब्यूरो यानी आईबी अफसर अंकित शर्मा की हत्या का आरोप आम आदमी पार्टी के निगम पार्षद ताहिर हुसैन पर लगने के बाद गौतम गंभीर ने अरविंद केजरीवाल पर हमला बोला है। भाजपा सांसद गौतम गंभीर ने अंकित शर्मा की हत्या पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की चुप्पी को लेकर सवाल किया है और कहा कि आपकी चुप्पी खतरनाक है। गौतम गंभीर ने ट्वीट किया, आईबी जवान अंकित शर्मा को मार कर लाश नाली में फ़ेंक देना, घर में दंगाइयों को पनाह देना और पेट्रोल बम फेंकना। ऐसे आरोप एक प्रतिनिधि पर लग रहें हैं। अगर ये साबित होता है, तो ताहिर हुसैन को ना जनता माफ करेगी, ना कानून और ना भगवान। अरविंद केजरीवाल आपकी खामोशी खतरनाक है। अंकित शर्मा को मार कर लाश नाली में फ़ेंक देना, घर में दंगाइयों को पनाह देना और पेट्रोल बम फेंकना! ऐसे आरोप एक प्रतिनिधि पर लग रहें है! अगर ये साबित होत