Friday, November 15

Health & Beauty

संगीत कितना फायदेमंद है बच्चों के लिये

संगीत कितना फायदेमंद है बच्चों के लिये

Health & Beauty
संगीत चिकित्सा से बच्चों और किशोरों की निराशा और व्यवहार संबंधी एवं भावात्मक समस्याओं में कमी लाई जा सकती है। यह जानकारी एक अध्ययन में सामने आई है। शोधकर्ताओं ने 251 बच्चों एवं किशोरों को अध्ययन में शामिल किया। इनकी उम्र आठ से 16 वर्ष के बीच थी। इनका संगीत उपचार किया गया। जिन बच्चों को संगीत चिकित्सा दी गई, उनके आत्मविश्वास में काफी वृद्धि हुई और उनकी उदासी काफी कम हुई। जिनका इलाज बगैर संगीत चिकित्सा के किया गया, उनमें इतना अच्छा परिणाम नहीं आया। यह अध्ययन रपट चाइल्ड साइकोलॉजी एंड साइकेट्री में प्रकाशित हुई है। इसमें पाया गया है कि 13 साल से अधिक उम्र के जिन किशोरों को संगीत चिकित्सा दी गई, उनके अभिव्यक्ति कौशल में काफी सुधार हुआ। खासकर उनकी तुलना में, जिन्हें सामान्य चिकित्सा मुहैया कराई गई और अकेले रहे। संगीत चिकित्सा से सभी आयुवर्ग के समूहों की सामाजिकता में भी सुधार हुआ। अध्ययन में श
कम नींद आपके बच्चे को कर सकती है बीमार

कम नींद आपके बच्चे को कर सकती है बीमार

Health & Beauty
अगर आप एक नियमित दिनचर्या का पालन नहीं करते हैं तो आपको कई बीमारियों से जूझना पड़ सकता है। लेकिन यह तथ्य बड़ों पर ही नहीं छोटे बच्चों पर भी लागू होता है। माता पिता के लिए सचेत होने वाली खबर है कि रात में पर्याप्त नींद नहीं लेने वाले बच्चों को टाइप 2 मधुमेह होने का खतरा अधिक होता है। ब्रिटेन में लंदन की सेंट जॉर्जेज यूनिवर्सिटी में अनुसंधानकर्ताओं ने ब्रिटेन में नौ से 10 आयुवर्ग के विभिन्न जातियों के 4525 बच्चों के शारीरिक माप, उनके रक्त के नमूने और प्रश्नावली आंकड़ा एकत्र किया। उन्होंने पाया कि जो बच्चे अधिक देर तक सोते हैं उनका वजन अपेक्षाकृत कम होता है। नींद के समय का इनसुलिन, इनसुलिन प्रतिरोधक और रक्त में ग्लुकोज के साथ विपरीत संबंध है यानी यदि नींद का समय अधिक होगा तो इनसुलिन प्रतिरोधक और रक्त में ग्लुकोज का स्तर कम होगा। ब्रिटेन में राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा (एनएचएस) 10 साल के बच्चे क
बच्चों के दिमाग के विकास के लिए काफी फायदेमंद है अंडा

बच्चों के दिमाग के विकास के लिए काफी फायदेमंद है अंडा

Health & Beauty
बदलते लाइफस्टाइल के चलते हम कई तरह की चीजों का सेवन हमारे खान-पान में शामिल करते है। ऐसा ही कुछ सर्दियों में ठंड से बचने के लिए अंडे को लेकर भी है। अंडे में कई तरह के शरीर को जरूरी प्रोटीन, कैल्‍शियम,विटामिन व मिनरल्स मिलते हैं। जो कई तरह की बीमारियों को दूर भगाने का काम करते है। अंडे के सेवन से बच्चों के मस्तिष्क विकास में मदद मिल सकती है क्योंकि यह बेहतर पोषक तत्वों का स्रोत है। अमेरिकन जर्नल ऑफ क्लिनिकल न्यूट्रीशन में प्रकाशित अनुसंधान में पाया गया कि जिन बच्चों को अंडा खाने में दिया गया, उनकी कोलीन (विटामिन बी जैसा पोषक तत्व) रक्त सांद्रता, डीएचए और अन्य मानक महत्वपूर्ण रूप से उच्च थे। ये पोषक तत्व बच्चों के मस्तिष्क विकास और कार्यप्रणाली में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। 4वाशिंगटन यूनिवर्सिटी से लौरा लैन्नोटी ने कहा कि दूध की तरह अंडे भी प्रारंभिक वृद्धि और विकास में काफी मददगार होत
मेकअप में टैल्कम पाउडर का इस्तेमाल

मेकअप में टैल्कम पाउडर का इस्तेमाल

Health & Beauty
टैल्कम पाउडर न सिर्फ पसीना सोखने और खूशबू के लिए इस्तेमाल में लाया जा सकता है बल्कि इसका इस्तेमाल मेकअप सेट करने में भी किया जा सकता है। 4बरौनियों का मेकअप करने के दौरान आप टैल्कम पाउडर का इस्तेमाल कर सकती हैं। बरौनियों पर मस्कारा लगाने से पहले हल्का सा टैल्कम पाउडर लगा लें। इससे आईलैश मेकअप ज्यादा देर तक टिका रहेगा। टैल्कम पाउडर लगाते समय अपनी आंखों को बंद रखें, जिससे आंखों में खुजली या किसी किस्म की समस्या नहीं हो। 4मेकअप बेस के तौर पर टैल्कम पाउडर का बेहतरीन इस्तेमाल हो सकता है। मेकअप के चिपचिपेपन व चेहरे के तैलीय लुक से बचने के लिए हल्का सा टैल्कम पाउडर लगा लें। यह आपके मेकअप को सेट करने में मदद करता है और अतिरिक्त तेल को अवशोषित कर लेता है। 4वैक्सिंग के बाद खुजली या लालिमा से बचने के लिए वैक्स कराने से पहले आप टैल्कम पाउडर का इस्तेमाल कर सकती हैं। जिस हिस्से में वैक्स कराना है, वहा
आइलैश एक्सटेंशन से आंखों की खूबसूरती निखारें

आइलैश एक्सटेंशन से आंखों की खूबसूरती निखारें

Health & Beauty
इस तकनीक में ग्राहक के इच्छा अनुसार नेचुरल और सिन्थेटिक दोनों ही प्रकार के आइलैश का प्रयोग किया जाता और घना दिखाने के लिए प्राकृतिक आईलैश के ऊपर एक सिंगल लैश लगाया जाता है| सिन्थेटिक आईलैश एक्सटेंशन अधिक दिनों तक चलता है और इसमें संक्रमण व खुजली होने की संभावना कम होती है| नेचुरल और सिंथेटिक आइलैशेज दोनों ही सेमी परमानेंट होते हैं, जोकि चार सप्ताह से लेकर तीन महीने तक भी चल जाते हैं| आईलैश एक्सटेंशन में आंखों को देखने में किसी प्रकार की बाधा नहीं होती है| ध्यान रखें वैसे तो आईलैश एक्सटेंशन करवाते समय हल्का सा दर्द होता है जैसे किसी ने चिकोटी काटी हो | लेकिन कभी कभी रुखी त्वचा वालों को इसमें खुजली और प्राकृतिक लैशेज़ के झड़ने की समस्या हो सकती है | जिन लोगों को किसी प्रकार के आंखों की समस्या होती है, उन्हें आखों का लाल होना, आंखों से पानी निकलना और कभी कभी देखने में भी परेशानी हो सकती
गर्दन की खूबसूरती बनाए रखें

गर्दन की खूबसूरती बनाए रखें

Health & Beauty
लम्बी, सुराहीदार गर्दन को सुन्दरता का प्रतीक माना जाता है, परन्तु उम्र की लकीरे सबसे पहले गर्दन पर ही झलकती हैं | गर्दन की ख़ूबसूरती को ये लकीरें ख़त्म न करें, इसके लिए जरूरी है कि हम गर्दन की सुन्दरता को बनाये रखने के लिए उपयोगी टिप्स अपनाएं | यहाँ इस आर्टिकल में हम कुछ ऐसी ही टिप्स बताएगें गर्दन की त्वचा की मेटाबोलिक प्रक्रिया तथा रक्त-संचालन धीमी गति से होती है, इसलिए वहां की त्वचा जल्दी रूखी, खुरदरी व बदरंग होकर बेरौनक हो जाती है| चेहरे की तरह गर्दन भी धूल एवं सूर्य की अल्ट्रावायलेट किरणों के संपर्क में आती है| अगर आप गर्दन के प्रति सजगता नहीं बरतती है तो चेहरे व गर्दन के रंग में अंतर आ जाता है, जो बेहद भद्दा दिखता है| परंतु थोड़ी-सी नियमित रूप से देखभाल करके आप भी सुराहीदार गर्दन की स्वामिनी बन सकती है| गर्दन की झुर्रियों से कैसे बचें झुर्रियों से बचने के लिए नियमित रूप से गर्दन की

दुल्हन के मेकअप के िलए कुछ टिप्स

Health & Beauty, Life Style
शादी के दिन हर लड़की की खूबसूरत दिखने की और सबके आकर्षण का केंद्र बनने की ख्वाहिश होती है। इस दिन सबसे अच्छा दिखने के लिए ज्यादा मेकअप की लीपापोती नहीं करें और किसी भी तरह के तनाव से भी दूर रहने की कोशिश करें। सौंदर्य विशेषज्ञ पुनीति ने इस संबंध में कुछ सुझाव दिए हैं आइए जानते है =दुल्हन के बेहतर लुक का मुख्य मकसद पूरा लुक सिंपल रखते हुए भी बेहद खूबसूरत दिखना होता है, जैसा कि भारतीय दुल्हनें भारी कपड़ों और गहनों से लदी होती हैं, तो ऐसे में मेकअप नैचुरल रखना ही बेहतर होगा। =अगर आप एक परंपरागत दुल्हन का लुक चाहती हैं तो सिंदूरी, लाल, कोरल रेड, गहरे लाल और गहरे गुलाबी रंग की लिपस्टिक लगाएं। पेस्टल या न्यूड रंगों के लिप कलर के इस्तेमाल से बचें। =आंखों या होंठ में से किसी एक को हाईलाइट करें न कि दोनों को। आजकल नए ब्राइडल मेकअप स्टाइल चलन में हैं। समारोह के हिसाब से होंठों को लिप ग्लॉस से शाइ
इन चीज़ों को चेहरे पर लगाने से बचेें

इन चीज़ों को चेहरे पर लगाने से बचेें

Health & Beauty
आज के समय में हर कोई व्यक्ति चाहता है कि वह खूबसूरत दिखे। खुद को ख़ूबसूरत दिखाने के लिए हम कई ब्यूटी प्रॉडक्ट्स और घरेलू नुस्खों का भी प्रयोग करते है। लेकिन कई बार हमारे चेहरे में पिम्पल्स, कील मुहांसे, रैशेज़ जैसी कई ऐसी समस्याएं हो जाती है। जिनसे परेशान होकर हम किसी कि भी बात मानकर अपने चेहरे पर कुछ ऐसी चीजों का इस्तेमाल कर लेते हैं, जिनसे हमारी स्किन को फायदे की जगह नुकसान पहुँचता है। हम आपको कुछ ऐसी ही चीज़ों के बारे में बताएँगे जिनका प्रयोग हमंे भूलकर भी अपने चेहरे पर नहीं करना चाहिए। बॉडी लोशन का प्रयोग – दूसरे बॉडी पार्ट्स की स्किन के मुकाबले हमारी चेहरे की स्किन काफी सेंसिटिव और पतली होती है। इसलिए भूलकर भी कभी अपने चेहरे पर बॉडी लोशन का प्रयोग ना करें। क्योंकि चेहरे पर बॉडी लोशन का प्रयोग करने से आपको पिंपल्स का सामना करना पड़ सकता हैं। इसलिए बॉडी लोशन का प्रयोग फेस पर ना करंे।
घरेलू नुस्खे बढ़ा देंगे आपकी खूबसूरती

घरेलू नुस्खे बढ़ा देंगे आपकी खूबसूरती

Health & Beauty
हम अहमियत नहीं देते, पर हमारे रोमछिद्र हमारी सेहत और खूबसूरती दोनों को बरकरार रखने में अहम भूमिका निभाते हैं। हमें जो पसीना निकलता है, वह त्वचा की सतह पर मौजूद रोमछिद्रों के माध्यम से निकलता है। ये रोमछिद्र शरीर से अतिरिक्त तेल को बाहर निकालते हैं। कहा जा सकता है कि त्वचा पर मौजूद रोमछिद्रों की मदद से ही त्वचा सांस लेती है। जब ये रोमछिद्र बंद हो जाते हैं तो मुहांसे होने लगते हैं। सामान्य तौर पर रोमछिद्र त्वचा पर दिखाई नहीं देते, लेकिन कई बार कुछ कारणों से रोमछिद्रों का आकार बड़ा होने लगता है। बड़े रोमछिद्र त्वचा की सेहत को भी प्रभावित करते हैं और देखने में काफी भद्दे लगते हैं। रोमछिद्र कई बार तनाव की वजह से तो कई दफा अनुवांशिक कारणों से बड़े हो जाते हैं। बढ़ती उम्र के साथ भी त्वचा का कसाव कम होने लगता है। इससे भी रोमछिद्र का आकार बढ़ने लगता है। कारण जो भी हो, लेकिन ये बढ़े हुए रोमछिद्र्र हमें
हिचकी जब करे परेशान तो ये तरीके बनेंगे रामबाण इलाज

हिचकी जब करे परेशान तो ये तरीके बनेंगे रामबाण इलाज

Health & Beauty
हम सभी को कभी ना कभी हिचकी आती है। कुछ लोग कहते हैं हिचकी आने का मतलब है कि कोई आपको याद कर रहा है कोई कहता है कि हिचकी का मतलब है कि आपने किसी चीज को चुराया है। सबकी अपनी-अपनी मान्यता है लेकिन डॉक्टरों का ऐसा मानना नहीं है। 4एक पुराना नुख्सा है कि जब भी आपको हिचकी आए तो जोर से कान का निचला हिस्सा दबाएं इससे आपकी हिचकी तुरंत बंद हो जाएगी। 4जब भी आपको हिचकी आए अपनी जीभ के नीचे शहद रख दें आपकी हिचकी बंद हो जाएगी। 4जब भी आपको हिचकी आए तो कोई भी ठंड़ी चीज जैसे बर्फ के टुकड़ों को अपने गले पर मलें या रख दें इससे भी आपकी हिचकी बंद हो जाएगी। 4जब कभी भी आपको शराब पीने के बाद हिचकी आती है तो उसे भी आप आसानी से रोक सकते है इसके लिए नींबू का एक छोटा सा टुकड़ा अपने मुंह में रखें आपकी हिचकी तुरंत बंद हो जाएगी। 4 हिचकी को रोकने का एक और उपाय यह है कि एक पेपर बैग या कपडे में सांस लें और छोड़ें इससे