Tuesday, January 28

Rajasthan

विजयदान देथा की कहानी पर  फीचर फिल्म ‘कॉचली’

विजयदान देथा की कहानी पर फीचर फिल्म ‘कॉचली’

National, Rajasthan
राजस्थान के शेक्सपीयर कहे जाने वाले प्रसिद्व लोक कथाकार विजयदान देथा की चर्चित कहानी ‘केंचुली’ पर आधारित फीचर फिल्म ’कॉचली’ लाइफ इन अ स्लू प्रदर्शन हेतु तैयार है।‘कॉचली’ लाइफ इन अ स्लू पहले विजयदान देथा कई कहानियां हमारी व्यावसायिक और गैर व्यवसायिक फिल्मों का आधार रह चुकी हैं जिसमें शाहरूख खान,रानी मुखर्जी अभिनीत ‘पहेली’ एक मुख्य फिल्म हैं। प्रख्यात गायक अनूप जलोटा द्वारा प्रस्तुत कॉचली लाइफ इन अ स्लू में सार्थक और व्यावसायिक सिनेमा दोनो में समान रूप से अपनी पहचान बना चुके अभिनेता संजय मिश्रा मुख्य भूमिका में हैं|उनके साथ नवोदित शिखा मल्होत्रा ने कहानी के मुख्य पात्र कजरी की भूमिका निभायी हिंदी फिल्म जगत में बतौर अभिनेत्री अपनी पारी की शुरुआत की| शिखा बैरी जॉन एक्टिंग स्कूल से पासआउट है जहां से शाहरूख खान , मनोज वाजपेयी और ऋचा चढडा जैसे अभिनेता निकले हैं। फिल्म के अन्य मुख्य कलाकारों म

राजस्थानी मोट्यार परिषद् द्वारा डॉ हरिराम बिश्नोई को किया सम्मानित

National, Rajasthan
बीकानेर। राजस्थानी मोट्यार परिसद के बीकानेर संभाग अध्यक्ष डॉ हरिराम बिश्नोई का बीकानेर आने पर राजस्थानी मोट्यार परिषद् इकाई बीकानेर द्वारा सम्मान किया गया गया। ज्ञात रहे कि अभी मोहनलाल सुखाड़िया विश्वविद्यालय के 27 वे दीक्षांत समारोह में राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र तथा उच्च शिक्षा मंत्री राजस्थान सरकार भंवर सिंह भाटी के द्वारा विद्यावाचस्पति (पीएचडी)की उपाधि प्रदान की गई | बिश्नोई को यह उपाधि राजस्थानी विषय में राजस्थानी संत साहित्य में जम्भवाणी-एक ‘अध्ययन’ शीर्षक पर राजस्थानी विभागाध्यक्ष डॉ सुरेश सालवी के निर्देशन में पीएचडी करने पर प्रदान की गई| प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ गौरीशंकर प्रजापत और डॉ नमामि शंकर ने हर्ष जताते हुए बिश्नोई को आशीर्वाद प्रदान किया। डॉ हरिराम बिश्नोई लंबे समय से राजस्थानी भाषा की मान्यता के लिए संघर्ष कर रहे हैं। बीकानेर उपाध्यक्ष सरजीत सिंह ने बताया कि राजस्थानी

संविधान की मूल भावना के खिलाफ बताया

Rajasthan
जयपुर, (भाषा)। राजस्थान के उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने बुधवार को कहा कि केंद्र की भाजपा नीत सरकार द्वारा पेश नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 संविधान की मूल भावना के खिलाफ है। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष पायलट इस विधेयक के खिलाफ यहां गांधी सर्किल पर आयोजित धरने को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि संविधान के अनुच्छेद 14 में कहीं नहीं लिखा है कि नागरिकता धर्म के आधार पर तय होगी। उन्होंने कहा, ‘‘अगर किसी का चरित्र ठीक नहीं है या किसी के खिलाफ कानूनी कार्रवाई हो चुकी है या अगर कोई भारत के संविधान में विश्वास नहीं रखता तो उसे भारत का नागरिक बनने का कोई अधिकार नहीं है... लेकिन विधेयक में पहली बार लिखा गया है कि फलां फलां धर्म के लोग तो बन सकते हैं और फलां के नहीं। कांग्रेस इसे कतई स्वीकार नहीं करेगी।’ उन्होंने कहा कि भारत के संविधान में आजादी से लेकर आज तक धर्म के नाम पर कभी बंटवारा नहीं हुआ है। दे
राजस्थान संस्था संघ  के पदाधिकारियों ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला को दी जन्मदिन की बधाई

राजस्थान संस्था संघ के पदाधिकारियों ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला को दी जन्मदिन की बधाई

Rajasthan
विगत दिवस लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के 58वें जन्मदिवस के माैके पर सभी ने अपनी शुभकामनाएं दी। इस अवसर पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ कार्यकर्ता व राजस्थान संस्था संघ के अध्यक्ष सुरेश मेठी खंडेलवाल, बीकानेर समूह के निदेशक नवरत्न अग्रवाल तथा मातृछाया के अध्यक्ष व वरिष्ठ चार्टड एकाउंटेंट ए.के. जालान व अन्य सदस्यों ने ओम बिरला को अंग वस्त्र पहनाकर व पुष्प गुच्छ देकर उनके स्वस्थ एवं प्रसन्न जीवन की कामना की। देश की राजनीति में सदैव सक्रिय रहने एवं आगे बढ़कर राष्ट्रीय स्तर पर अपनी भागीदारी को सुनिश्चत करने की कामना के साथ शुभकामनाएं दी। इस अवसर पर बिरला ने राजस्थान संस्था संघ के सभी पदाधिकारियों को कहा कि आप लोगों के आशीर्वाद ,सहयोग एवं प्यार के कारण ही हम आज देश की सेवा करते हुए यहां तक पहुंचे हैं और आप लोगों का सहयोग एवं प्यार ही हम को आगे बढ़ाता रहेगा।

पहलू खान और उसके बेटों के खिलाफ गो तस्करी का मामला रद्द

Rajasthan
जयपुर, (भाषा)। राजस्थान उच्च न्यायालय ने बुधवार को पहलू खान, उसके दो बेटों और ट्रक चालक पर दर्ज गौ तस्करी के मामले को रद्द कर दिया। पहलू की अप्रैल 2017 में कथित गौ रक्षकों ने हत्या कर दी थी। न्यायमूर्ति पंकज भंडारी की एकल पीठ ने राजस्थान गोवंश संरक्षण कानून और अन्य धाराओं के तहत चारों के खिलाफ दर्ज मामले और आरोप पत्र को रद्द करते हुए कहा कि ऐसा कोई सबूत नहीं है जो रेखांकित करता हो कि गायों को वध के लिए ले जाया जा रहा था। अदालत ने यह फैसला ट्रक चालक खान मोहम्मद और पहलू खान के दो बेटों की ओर से दायर याचिका पर सुनाया। आरोपियों की ओर से पेश वकील कपिल गुप्ता ने कहा कि आपराधिक मामला कानूनी प्रक्रिया का दुरुपयोग है क्योंकि ऐसा कोई सबूत नहीं है जिससे साबित हो कि गायों को वध के लिए ले जाया जा रहा था। उल्लेखनीय है कि एक अप्रैल 2017 को पहलू खान, उनके दो बेटे और अन्य गाय ले जा रहे थे तभी अलवर जिले के

भाजपा स्पष्ट करे कि किसके चेहरे पर लड़ रही है चुनाव : गहलोत

National, Rajasthan
जयपुर,(भाषा)। कांग्रेस महासचिव अशोक गहलोत ने सोमवार को कहा कि भारतीय जनता पार्टी यह स्पष्ट करे कि वह राज्य के विधानसभा चुनाव किस चेहरे को सामने रखकर लड़ रही है। इसके साथ ही पूर्व मुख्यमंत्री गहलोत ने आरोप लगाया कि जीका जैसे वायरस का संक्रमण फैलने के बीच मुख्यमंत्री और राज्य सरकार के मंत्री आम जनता की चिंता छोड़ चुनाव जीतने की जुगाड़ में लगे हैं। यहां संवाददाताओं से बातचीत में गहलोत ने मनरेगा, जीका व रिसर्जेंट राजस्थान जैसे मुद्दों को लेकर राज्य की भाजपा सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा, ‘‘पहले मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का चेहरा सामने रखकर चुनाव लड़ने की घोषणा हुई थी, अब मैंने सुना है कि वह चेहरा तो हो गया गायब। वह रह गया है नाममात्र का, अब हो गया है कमल का फूल।'’ पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को स्पष्ट करना चाहिए कि आगामी विधानसभा चुनाव में चेहरा किसका है, वसुंधरा रा
घायल लोग तड़पते रहे, लोग वीडियो-सेल्फी में मशगूल रहे, घायलों की मौत

घायल लोग तड़पते रहे, लोग वीडियो-सेल्फी में मशगूल रहे, घायलों की मौत

Rajasthan
जयपुर, भाषा। राजस्थान के बाड़मेर जिले में मानवता को शर्मसार करने का मामला सामने आया है जिसमें एक दुर्घटना में घायल हुए लोगों की मदद करने की बजाय स्थानीय लोग सेल्फी और वीडियो बनाते रहे। तीनों घायलों की मौत हो गयी। दुर्घटना के शिकार तीन घायलों में से एक व्यक्ति खून में लथपथ था और दर्द से कराह रहा था लेकिन भीड़ में से कोई भी व्यक्ति उसकी मदद करने को आगे नहीं आया बल्कि लोग सड़क पर पड़े घायलों की सेल्फी और वीडियो बनाते रहे। पुलिस ने कहा कि यदि समय पर घायलों को मदद मिल जाती तो तीन में से दो को बचाया जा सकता था। घायलों में से एक की मौके पर ही मौत हो गई। एक घायल की बाड़मेर के अस्पताल में उपचार के दौरान और एक अन्य घायल की जोधपुर के अस्पताल ले जाने के दौरान मौत हो गई। बाड़मेर के चौहटन थानाधिकारी मनोहर ने आज बताया कि सोमवार को चौहटन क्षेत्र में मोटर साइकिल पर जा रहे तीन दोस्तों को एक स्कूल बस ने ट
वरिष्ठ विधायक तिवाड़ी ने पार्टी से इस्तीफा  दिया

वरिष्ठ विधायक तिवाड़ी ने पार्टी से इस्तीफा दिया

Rajasthan
जयपुर, भाषा। भाजपा से नाराज वरिष्ठ पार्टी विधायक घनश्याम तिवाड़ी ने पार्टी से त्याग पत्र दे दिया। उन्होंने कहा कि वह प्रदेश और देश में ‘अघोषित आपातकाल’ से लड़ेंगे। तिवाड़ी ने यहां संवाददाताओं से बातचीत में कहा, ‘‘ अघोषित आपातकाल वास्तविक आपातकाल से ज्यादा खतरनाक है। मैंने दोनों ही दौर देखे हैं और मैं इसके खिलाफ लड़ने के लिये पार्टी से अपना त्यागपत्र दे रहा हूं।’’राजस्थान में आगामी विधानसभा चुनाव लड़ने के लिये तिवाड़ी के पुत्र अखिलेश तिवाड़ी ने हाल ही में 'भारत वाहिनी पार्टी' का गठन किया है। तिवाड़ी ने कहा कि अच्छी बात है​ कि आज भाजपा 25 जून 1975 में कांग्रेस द्वारा घोषित आपातकाल के विरोध में युवाओं में जागरूकता पैदा करने के लिये 'काला दिवस' मना रही है। उन्होंने कहा कि आज आपातकाल लगाना संभव नहीं है, लेकिन ‘‘यह बताना जरूरी है कि देश पिछले चार सालों से अघोषित आपातकाल के दौर से गुजर रहा है।

आने वाले दिनों में नेहरू को भी अपनाएगी भाजपा: गहलोत

National, Rajasthan
जयपुर, भाषा। कांग्रेस के राष्ट्रीय संगठन महासचिव अशोक गहलोत ने कहा है कि भारतीय जनता पार्टी ने सत्ता में आने के लिए गांधी (महात्मा गांधी) और पटेल (सरदार वल्लभ भाई पटेल) को अपना लिया है तथा आने वाले समय में यह लोग पंडित जवाहरलाल नेहरू को भी अपनाएंगे। गहलोत ने दावा किया कि आगामी आम चुनाव के बाद नरेन्द्र मोदी फिर से प्रधानमंत्री नहीं बनेंगे। साथ ही कहा कि देश के लोग उनके शासन से सहमे हुए हैं। गहलोत ने अपने सरकारी आवास पर संवाददाताओं से कहा, ‘‘भाजपा पहले दलित और गांधी जी (महात्मा गांधी) के खिलाफ थी, अब उसे उपवास की याद आ रही है। मैं इनसे (भाजपा से) पूछना चाहता हूं कि क्या इन्होंने सौ साल में कभी उपवास रखा है। कांग्रेस का उपवास रखने का मकसद पूरा हो गया। 10 अप्रैल को भारत बंद के दौरान हिंसक वारदात नहीं हुईं।’’ उन्होंने आरोप लगाया कि नरेन्द्र मोदी और वसुंधरा राजे ने झूठ बोल कर सत्ता हासिल की जिस
राजस्थान में शिशु मृत्यु दर में कमी, पर अभी राष्ट्रीय औसत से दूर

राजस्थान में शिशु मृत्यु दर में कमी, पर अभी राष्ट्रीय औसत से दूर

National, Rajasthan
जयपुर, भाषा। राजस्थान देश के उन पांच राज्यों में शामिल है, जहां जन्म लेने वाले प्रति 1000 बच्चों में से 40 से ज्यादा बच्चे अपना पहला जन्मदिन मनाने से पहले ही काल के गाल में समा जाते हैं। सरकार और स्वास्थ्य संगठनों के मिले-जुले प्रयासों से प्रदेश में शिशु मृत्यु दर कम तो हुई है, लेकिन देश की औसत शिशु मृत्यु दर, प्रति 1000 पर 34 से अभी भी काफी अधिक है। राज्य में इन्फैंट मॉर्टलिटी रेट द्वारा जारी आंकडों के अनुसार प्रदेश में वर्ष 2012 में पैदा होने वाले प्रति 1000 शिशुओं में से 49 अपना पहला जन्मदिन नहीं मना पाते थे और कम वजन, संक्रमण, अतिसार, टायफायड और हायपोथर्मिया जैसी नौ बीमारियों के कारण मौत का शिकार हो जाते थे। पिछले छह सालों में यह दर घट कर 41 हो गयी है। जनसंख्या विशेषज्ञ डॉ॰ देवेंद्र कोठारी का कहना है कि राजस्थान में शिशु मृत्यु दर एक दशक पहले तक चिंताजनक थी, लेकिन अब इसमें गिरावट आ रह