Wednesday, April 1

Uttrakhand

वैज्ञानिक दृष्टिकोण को बढ़ावा देने व विज्ञान संचार की दिशा में चल रहा प्रयास  युवाओं में जिज्ञासा विकसित कर रहे सीबीआरआई वैज्ञानिक

वैज्ञानिक दृष्टिकोण को बढ़ावा देने व विज्ञान संचार की दिशा में चल रहा प्रयास युवाओं में जिज्ञासा विकसित कर रहे सीबीआरआई वैज्ञानिक

Uttrakhand
नेशनल एक्सप्रेस ब्यूरो। रुड़की। भारतीय भौतिक विज्ञानी सर सीवी रमन द्वारा रमन प्रभाव की खोज को प्रमाणित कर विश्व में आधुनिक युग के भारत के वैज्ञानिक दृष्टिकोण को स्थापित किया गया था। इसी वैज्ञानिक दृष्टिकोण को बढ़ावा देने व विज्ञान संचार और लोकप्रियकरण के क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रयासों को मान्यता देने के लिए 1987 से भारत यह दिन राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के रूप में मना रहा है। यह दिन युवाओं को विज्ञान के प्रति आकर्षित करने के प्रेरणा स्त्रोत का कार्य करता है। विज्ञान अनुसंधान एवं विकास की ओर एक अखिल दौर दृष्टिकोण के साथ, वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) विज्ञान के प्रत्येक क्षेत्र में देश की उन्नति हेतु कार्यरत है। सीएसआईआर ने देश के ताने-बाने की पहचान अमिट स्याही के विकास से शुरूआत कर कृषि से जलवायु परिवर्तन, औषध विकास से हाऊसिंग, लैदर से ट्रांसपोर्ट तक जुड़ी अनेक प्रौद्योगिकियां
समाज की प्रगति को ज्ञान बेहद आवश्यकः डा. कस्तुरीरंगन

समाज की प्रगति को ज्ञान बेहद आवश्यकः डा. कस्तुरीरंगन

Uttrakhand
नेशनल एक्सप्रेस ब्यूरो। रुड़की। नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति का मसौदा तैयार करने के लिए गठित समिति के अध्यक्ष पद्मविभूषण डॉ. कृष्णस्वामी कस्तूरीरंगन ने कहा कि भारत जैसे विशाल और विविधता वाले समाज की प्रगति के लिए ज्ञान बहुत आवश्यक है। ऐसा समाज आर्थिक विकास और समृद्धि के लिए पथ-प्रदर्शक का काम करेगा। आईआईटी रुड़की के जैव प्रौद्योगिकी विभाग के सभागार में टू वर्डस ए 21 फस्ट सेंचुरी नॉलेज सोसाइटी पर आयोजित व्याख्यान में वह शामिल हुए। व्याख्यान सत्र में सौ से अधिक छात्रों ने डॉ. कस्तूरीरंगन को सुना। 21 वीं सदी के महत्वाकांक्षी लक्ष्यों के अनुरूप भारत को एक बौद्धिक समाज में बदलने से संबंधित बिंदुओं पर उन्होंने अपनी बात रखी। उन्होंने कहा कि ऐसा समाज आर्थिक विकास और समृद्धि के लिए एक पथ-प्रदर्शक का काम करेगा। डॉ. कस्तूरीरंगन को वर्तमान केंद्र सरकार ने नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति का मसौदा तैयार करने के ल
मैथोडिस्ट में पढ़ाया गया छात्राओं को योग का महत्व

मैथोडिस्ट में पढ़ाया गया छात्राओं को योग का महत्व

Uttrakhand
नेशनल एक्सप्रेस ब्यूरो। रुड़की। सुसाना मैथोडिस्ट गल्र्स बीएड़ कालेज में आयोजित योग शिविर में ब्रहस्पतिवार को दूसरे दिन व्यायाम, भ्रामरी व अनुलोम, विलोम का पाठ पढ़ाया गया। शिविर की शुरूआत योग से हुई। इसमें तमाम छात्राओं, शिक्षिकाओ ने प्रतिभाग किया। योग प्रशिक्षक दिनेश धीमान ने एकाग्रता व मानसिक स्वास्थय को प्रबल बनाए जाने के गुर बताए। कहा कि योग से पूरे शरीर के विकास क्रम को सुधारा जा सकता है। आज के समय में योग बेहद जरूरी है। योग शरीर को चुस्त-दुरूस्त रखने के साथ ही कई तरह की बीमारियों से भी निजाज दिलाता है। उन्होने कहा कि आज पूरी दुनिया योग को अपना रही है। इसका सबसे बड़ा कारण शरीर को चुस्त रखना और बीमारियों के खतरे से निजात पाना ही है। भारत में योग को बढ़ावा देने के लिए अनेक कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं। शहरों से लेकर अब गांव तक योग को लेकर प्रत्येक व्यक्ति जागरूकता दिखा रहा है। यह एक बेहद ही अच्

कारोबारी के खाते से 30 हजार रुपये उड़ाए

Uttrakhand
नेशनल एक्सप्रेस ब्यूरो। रुड़की। शहर में सिपाही के नाम पर एक कारोबारी के खाते से 30 हजार रुपये निकाल लिए गए। तहरीर के आधार पर पुलिस साइबर ठग के नम्बर और लोकेशन के बारे में जानकारी जुटाने में लगी है। रामपुर निवासी ट्रांसपोर्ट कारोबारी शहजाद ने बताया कि उसे अज्ञात नम्बर से फोन आया था। फोन करने वाले ने बताया कि वह गंगनहर में तैनात सिपाही बोल रहा है। उसका खाता किन्ही कारणों से बंद हो गया है। उसे तीस हजार रुपये की रकम जमा करानी है। रकम जमा कराने के लिए खाता नम्बर चाहिए। पीड़ित ने बताया कि झांसा देकर भाई का खाता नम्बर और फोन नम्बर लिया। भाई से फोन पर बातचीत भी की गई। फोन पर एक ओटीपी नॅबर भेजकर उसे बताने के लिए। आरोप है कि ओटीपी नम्बर बताते ही खाते से तीस हजार रुपये निकाल लिए गए। इंस्पेक्टर राजेश साह ने बताया कि साइबर ठगी की तहरीर मिली है। इससे पूर्व सैन्यकर्मी बनकर या खुद को गृह मंत्रालय से बताकर
शहीद चंद्रशेखर प्रतिमा की स्थापना को  जुटे संगठन, भूमि पूजन किया   शहीद चंद्रशेखर प्रतिमा स्थल को लेकर पिछले तीन साल से सियासी विवाद

शहीद चंद्रशेखर प्रतिमा की स्थापना को जुटे संगठन, भूमि पूजन किया शहीद चंद्रशेखर प्रतिमा स्थल को लेकर पिछले तीन साल से सियासी विवाद

Uttrakhand
नेशनल एक्सप्रेस ब्यूरो। रुड़की। शहीद चन्द्रशेखर की मूर्ति को फिर से पुरानी जगह पर लगवाए जाने को लेकर ब्रहस्पतिवार को कई संगठन सिविल लाइंस में जुट गए। यही नहीं मूर्ति स्थापना को लेकर संगठनो ने पुरानी जगह पर भूमि पूजन भी किया। इसे लेकर पुलिस भी मौके पर अलर्ट बनी रही। शहर में शहीद चंद्रशेखर प्रतिमा स्थल को लेकर पिछले तीन साल से सियासी विवाद गहराया हुआ है। बाजार में जाम की समस्या व सौंदर्यकरण को लेकर पिछले दिनों विधायक प्रदीप बत्रा ने शहीद चंद्रशेखर की प्रतिमा को चैराहे पर लगवा दिया था। इसे लेकर पूर्व मेयर यशपाल राणा व उनके समर्थकों द्वारा इस पर आपत्ति जताई गई। इसे लेकर विधायक समर्थक भी समर्थन में आगे आ गए। कुछ समय बाद यह सियासी विवाद समाप्त हो गया, लेकिन अब एक बार फिर से कुछ लोगों ने इस सियासी विवाद को हवा दे दी है। पंडित रजनीश शास्त्री के नेतृत्व में सुबह कई लोग प्रतिमा की पुरानी जगह पर जुट
नौटियाल ने कहा कि बाल मृत्यु का सबसे बड़ा कारण कुपोषण  मां का दूध ही बच्चे के लिए सबसे उपयोगीः मेदिनी

नौटियाल ने कहा कि बाल मृत्यु का सबसे बड़ा कारण कुपोषण मां का दूध ही बच्चे के लिए सबसे उपयोगीः मेदिनी

Uttrakhand
रुड़की। अमेरिकन इंडिया फाउंडेशन द्वारा गर्भवती महिलाओं और छोटे बच्चों की ग्रह देखभाल विषय पर तीन दिवसीय शिविर का आयोजन किया गया है। बुधवार को पहले दिन फाउंडेशन की ओर से छोटे बच्चों में कूपोषण को दूर करने के टिप्स दिए गए। शिविर में मौजूद विशेषज्ञों ने हर स्थिती में मां के दूध को बच्चों के लिए बेहतर बताया। अमेरिकन इंडिया फाउंडेशन की हरिद्वार जिला को-आर्डिनेटर मेदिनी नौटियाल ने कहा कि बाल मृत्यु का सबसे बड़ा कारण कूपोषण ही है। कूपोषण का खतरा कई तरह से बना रहता है। पहला सबसे बड़ा कारण छोटे बच्चों की सही देखभाल न होना और स्वच्छता पर ध्यान न दिया जाना है। मेदिनी ने कहा कि हर स्थिती में छह माह तक के बच्चे के लिए मां का दूध ही सबसे बेहतर है। टीबी व एचआईवी संक्रमित महिलाओं को छोड़कर तमाम महिलाओं को अपने बच्चे को अपना दूध ही पिलाना चाहिए। खासकर बुखार से ग्रस्त महिलाओं को बच्चे को दूध पिलाना सबसे ज्यादा
चंद्रशेखर की प्रतिमा पर सियासत फिर गर्म,  भूमि पूजन  आज

चंद्रशेखर की प्रतिमा पर सियासत फिर गर्म, भूमि पूजन आज

Uttrakhand
रुड़की। चन्द्रशेखर मूर्ति पर सियासत थम नहीं पा रही है। एक बार फिर से प्रतिमा की जगह को लेकर विवाद उठ खड़ा हुआ है। नई जगह के विरोध को लेकर शहर के विभिन्न संगठन एक मंच पर आ गए हैं। संगठनो ने ब्रहस्पतिवार को पुरानी जगह पर ही भूमि पूजन कर निर्माण कार्य शुरू करने की घोषणा कर दी है। इसके साथ ही प्रतिमा स्थल पर सौंदर्यीकरण की मांग को लेकर एक प्रतिनिधिमंडल मेयर गौरव गोयल से भी मिलेगा। मंगलवार को आशीर्वाद एन्क्लेव में आयोजित बैठक के दौरान पंडित रजनीश शास्त्री ने कहा कि चंद्रशेखर आजाद की प्रतिमा को फिर से पुराने स्थान पर लगाए जाने की जिम्मेदारी अब शहीदों का सम्मान करने वाले लोगों ने संभाल ली है और ब्रहस्पतिवार को भूमि पूजन के साथ इसकी शुरुआत कर दी जाएगी। पार्षद रवींद्र खन्ना ने कहा कि नगर निगम बोर्ड की बैठक में मूर्ति को पुराने स्थान के सौंदर्यीकरण का प्रस्ताव पास हो चुका है। अब 27 फरवरी को नगर के क
मिशन 2022 को लेकर क्षेत्र में जुट जाएं कार्यकर्ताः राकेश गिरी

मिशन 2022 को लेकर क्षेत्र में जुट जाएं कार्यकर्ताः राकेश गिरी

Uttrakhand
नेशनल एक्सप्रेस, ब्यूरो। रुड़की। भाजपा ओबीसी मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष राकेश गिरी का बुधवार को रुड़की के दोनों भाजपा मण्डलों के पदाधिकारियों द्वारा स्वागत किया गया। इस दौरान सभी ने एकजुट होकर मिशन 2022 को फतेह करने के साथ सरकार की योजनाएं जनजन तक पहुंचाने का आह्वान किया। कार्यक्रम में नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष राकेश गिरी ने कहा ओबीसी मोर्चा पार्टी की रीति और नीति के अनुसार कार्य करने के साथ संगठन को मजबूत करेगा। उन्होंने कहा राज्य और केंद्र सरकार की योजनाएँ जनजन तक पहुंचाना हम सब कार्यकर्ताओं का लक्ष्य है। विधायक प्रदीप बत्रा ने नवनियुक्त अध्य्क्ष को बधाई देते हुए राष्ट्र और संगठन हित में एकजुट होकर कार्य करने की बात कही। झबरेड़ा विधायक देशराज कर्णवाल ने कहा कि नगर निगम में भाजपा के पार्षदों को एकजुट होकर कार्य करना होगा तभी क्षेत्र का विकास हो सकेगा। उन्होंने कहा कि संगठन और जनप्रतिनिधि एकजुट हो
गौरी शंकर मंदिर स्थापना दिवस पर हवन व भंडारा

गौरी शंकर मंदिर स्थापना दिवस पर हवन व भंडारा

Uttrakhand
नेशनल एक्सप्रेस, ब्यूरो। रुड़की। अशोकनगर में बुधवार को गौरी शंकर मंदिर का स्थापना दिवस आस्था और उल्लास के साथ मनाया गया। इस दौरान हवन, पूजन के बाद मंदिर में भंडारे का आयोजन हुआ। इसमें अशोक नगर, भारत कालोनी, दुर्गा कालोनी, मिलापनगर के साथ ही शहर व अन्य जगहों से भी भारी संख्या में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी। विधायक प्रदीप बत्रा, समिति अध्यक्ष भ्यूराज बटोला व दिनेश चमोली ने श्रद्धालुओं का प्रसाद वितरण कर भंडारे का शुभारंभ किया। विधायक ने कहा कि धार्मिक आयोजनों से इंसान का मन पवित्र होता है। मन के अंदर पनपने वाले तमाम बूरे विचारों की समाप्ति होती है। विधायक ने कहा कि भगवान शिव तो वैसे भी भोले हैं, जो उनका नाम पुकारता है उसकी हर मनोकामना पूरी हो जाती है। मां गौरा भी भक्तों पर कृपा बरसाने वाली है। विधायक ने कहा कि शहर के विकास और समाज हित के कार्यक्रमों में हमेशा उनका योगदान बना रहेगा। मंदिर समिति
आईआईटी में शुरू हुआ जल सम्मेलन-2020

आईआईटी में शुरू हुआ जल सम्मेलन-2020

Uttrakhand
नेशनल एक्सप्रेस, ब्यूरो। रुड़की। आईआईटी व राष्ट्रीय जल विज्ञान संस्थान रुड़की की ओर से आयोजित 3 दिवसीय जल सम्मेलन के आयोजन का पहला संस्करण बुधवार से आरडब्ल्यूसी-2020 आईआईटी रुड़की में शुरू हुआ। पहले दिन का विषय हाइड्रोलॉजिकल आस्पेक्ट्स ऑफ क्लाइमेट चेंज रखा गया। जलवायु परिवर्तन और जल संसाधनों पर उसके प्रभाव वैश्विक पर्यावरणीय चुनौतियों में से एक हैं। कई अध्ययनों में यह अनुमान लगाया गया कि जलवायु परिवर्तन के कारण अगले सौ वर्षों में वैश्विक तापमान बढ़ जाएगा। जल संसाधन की कमी का वैश्विक प्रभाव पड़ने की संभावना है। विकास के शुरुआती दौर से गुजर रहे कृषि पर निर्भर देशों पर जलवायु परिवर्तन का सर्वाधिक प्रभाव हो सकता है। मुख्य अतिथी केन्द्रीय जल आयोग, जलशक्ति मंत्रालय, जल संसाधन विभाग, नदी विकास और गंगा रेजुवनेशन भारत सरकार नई दिल्ली अध्यक्ष आरके जैन ने देश में जल संसाधन प्रबंधन की समस्या पर जोर दिया।