Home Bihar आप चल नहीं सकते तो क्या हुआ,मैं हूं ना आपकी मदद के...

आप चल नहीं सकते तो क्या हुआ,मैं हूं ना आपकी मदद के लिए..! सीआरपीएफ के जवानों ने दिखाई दरियादिली।

0

◆सुरक्षा ऐसी की “परिंदा भी नहीं मार सका पर”◆ नेशनलएक्सप्रेसब्यूरो,बिहार:सूबे बिहार में द्वितीय चरण का मतदान शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न हो गई हैं।मतदान के दौरान सीआरपीएफ की 1200 जवानों की टुकड़ी अपने आईजीपी,जी.वी.एच.गिरी,डीआईजीपी संजय कुमार जैसे तेज तर्रार कर्तव्यनिष्ठ अधिकारियों के कुशल नेतृत्व में जमीन से लेकर आसमान तक से सुरक्षा की पुख्ता प्रशासनिक व्यवस्था में लगी रही।सीआरपीएफ के द्वारा हेलीकॉप्टर से वैसे इलाकों में कड़ी चौकसी बरती गई जहां किसी प्रकार की गड़बड़ी होने की आशंका जताई जा रही थी।इसके साथ-साथ सूबे बिहार के अनेकों मतदान केंद्र पर मतदान के दौरान निःसहाय,दिव्यांग मतदाताओं को मतदान करवाने में जो भूमिका निभाई है वह शायद बदलते दौर अपना कोई सगा भी नहीं कर पाता हैं।दिव्यांग मतदाताओं को अपने गोद का सहारा देकर मतदान करवाने का जो कदम सीआरपीएफ के जांबाज जवानों ने उठाया है,उसकी सर्वत्र भूरी-भूरी प्रशंसा हो रही हैं।गौरतलब है कि सूबे बिहार के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में नक्सलियों के खौफ को मिटाकर क्षेत्रीय आमजनों में सुरक्षा व प्रशासन के प्रति जो आत्म विश्वास पैदा की हैं वह सीआरपीएफ की ही देन मानी जाती हैं।अनेकों नक्सली लीडरों की गिरफ्तारी व मुठभेड़ में अनेकों शीर्ष नक्सली लीडरों की मौत सीआरपीएफ के कर्तव्य के प्रति बुलंद हौसले व जांबाजी का ही परिणाम है कि जिसकी चर्चा आज गांव के चौपाल से लेकर चौक चौराहे पर एक बार फिर से होने लगी हैं।इस संबंध में सीआरपीएफ,बिहार सेक्टर पटना में पदस्थापित कमांडेंट सह पीआरओ मुन्ना कुमार सिंह ने “नेशनल एक्सप्रेस” को बताया कि हमारे जवान देश और समाज की सेवा के लिए हमेशा से कृत संकल्पित रहे हैं और सदैव इस परंपरा का निर्वहन करते रहेंगे।बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान सीआरपीएफ के जवानों व अधिकारियों की मुस्तैदी आमजनों के बीच सराहनीय योगदान के लिए चर्चा का विषय बन चुकी हैं।