Home Bihar महागठबंधन से अलग होने के बाद लालू यादव पर बरसे उपेंद्र कुशवाहा,...

महागठबंधन से अलग होने के बाद लालू यादव पर बरसे उपेंद्र कुशवाहा, कह दी यह बात

0
उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि 15 साल से नीतीश कुमार बिहार को रसातल में पहुंचा रहे हैं. हमारी चिंता है कि कैसे बिहार को नीतीश कुमार के कुशासन से बाहर लाया जाए और बिहार को मुक्त कराया जाए.
पटना: कई दिनों से चल रही अटकलों पर विराम लगाते हुए आरएलएसपी सुप्रीमो उपेंद्र कुशवाहा ने मंगलवार को पीसी कर तीसरे मोर्चे के ऐलान किया है. उन्होंने उत्तरप्रदेश की पूर्व सीएम मायावती की पार्टी बीएसपी के साथ मिलकर नया गठबंधन तैयार किया है, जिसकी उन्होंने पीसी के दौरान जानकारी दी. इस दौरान उपेन्द्र कुशवाहा के साथ बिहार बीएसपी प्रभारी रामजी सिंह गौतम, बीएसपी प्रदेश अध्यक्ष भरत बिन्द और जनवादी पार्टी सोशलिस्ट के डॉक्टर संजय सिंह भी मौजूद रहे.

 

उपेन्द्र कुशवाहा ने कही यह बात:- पीसी के दौरान उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि 15 साल से नीतीश कुमार बिहार को रसातल में पहुंचा रहे हैं. हमारी चिंता है कि कैसे बिहार को नीतीश कुमार के कुशासन से बाहर लाया जाए और बिहार को मुक्त कराया जाए. हमने महागठबंधन में कोशिश की कि व्यवस्था बदले मगर वहां भी कुछ नहीं हुआ. हम शिक्षा की बात करते थे मगर वहां तो पूर्व मुख्यमंत्री अपने दोनों बेटे को भी दसवीं पास करा पाए.

 

 

जनता दोनों से मुक्ति चाहती है:- उन्होंने कहा कि बीजेपी और आरजेडी के बीच कुछ चल रहा है और इसकी सब जगह चर्चा है. जनता दोनों से मुक्ति चाहती है. हमने बेहतर विकल्प देने का निर्णय लिया है, जिसमें मायावती जी के आशीर्वाद के साथ बहुजन समाज पार्टी, जनवादी पार्टी सोशलिस्ट के साथ ये नया गठबंधन हम तीनों ने बनाया है. अबकी बार शिक्षा वाली सरकार का नारा बुलंद होगा.

 

 

बीएसपी ने कही यह बात:- पीसी में बसपा के बिहार प्रभारी राम जी सिंह गौतम ने कहा, ” ये गठबंधन उत्तर प्रदेश में जो बहन मायावती की विकास और न्याय वाली सरकार थी, वैसी ही सरकार का निर्माण बिहार में किया जाएगा. ये क्रांतीकारी गठबंधन है. बिहार के लोगों को नया विकल्प मिला, जो प्रदेश को नई गति देगा. इसका उदाहरण बहन मायावती जी की उत्तर प्रदेश की सरकार है जिसने शिक्षा के क्षेत्र में कई काम किया है. हमारे गठबंधन का नेतृत्व उपेंद्र कुशवाहा करेंगे. अब इस नए गठबंधन की गांठ कितनी मजबूत है ये तो चुनाव के बाद पता चलेगा लेकिन इतना तो साफ है कि उपेंद्र पर लगे रहे कयासों पर विराम लग गई है.