Home Mathura जेल से रिहा होते ही करने लगे लूटपाट

जेल से रिहा होते ही करने लगे लूटपाट

0

आगरा | जमानत पर रिहा होकर बाहर आते ही फिर वारदात करना शुरू कर दिया। मौका मिला तो लूट कर ली। रेकी अच्छी हो गई तो चोरी की घटना को अंजाम दिया। न्यू आगरा पुलिस ने ऐसे ही एक गिरोह पर शिकंजा कसा है। चोरी का माल खरीदने के आरोप में एक सराफा व्यापारी भी पकड़ा गया है। पुलिस ने सभी आरोपियों को शुक्रवार को जेल भेज दिया। एसपी सिटी बोत्रे रोहन प्रमोद ने बताया गिरोह का कसेरी थाना गंगीरी, अलीगढ़ निवासी चंद्रपाल, जगवीर व प्रमोद (गिजौली, खंदौली), मोनू (महाराजपुर, फतेहाबाद) को पकड़ा गया था। उनसे पूछताछ के बाद पुलिस ने न्यू रामगढ़, जलेसर मार्ग (फिरोजाबाद) निवासी प्रेमपाल कुशवाह को गिरफ्तार किया। प्रेमपाल सराफा व्यापारी है। चंद्रपाल इस गिरोह का सरगना है। चंद्रपाल वर्ष 2009 में एक गाड़ी चालक की हत्या और लूट के आरोप में जेल में बंद था। अगस्त में वह जेल से बाहर आया। बाहर आते ही उसने प्रमोद, मोनू व जगवीर के साथ मिलकर गिरोह बना लिया। लंबे समय जेल में रहने के कारण उसके पास एक रुपया भी नहीं था। उसने पैसों की जरूरत थी। आरोपियों ने बताया कि दस दिन पहले न्यू आगरा के अमर विहार क्षेत्र में तमंचा दिखाकर एक महिला से चेन लूटी थी। ताजगंज के बसई इलाके में सराफा की दुकान में चोरी की थी। चोरी का माल सराफ प्रेमपाल कुशवाह को बेचा था। एसपी सिटी ने बताया कि गिरफ्तार बदमाशों के पास से 1.81 लाख रुपये, आभूषण, तमंचे व एक बाइक बरामद हुई है। गिरोह को पकड़ने में एसएसआई न्यू आगरा विजय सिंह व एसआई आनंद शर्मा की अहम भूमिका रही। पूछताछ में चंद्रपाल ने बताया कि उसने चोरी के लिए कई सराफा व्यापारियों की दुकानों को चिन्हित किया था। रविवार की रात वारदात को अंजाम देना था। पहले शनिवार और रविवार को लॉक डाउन के चलते बाजारों में सन्नाटा रहता था। अब यह लॉक डाउन भी खत्म हो गया है। उसने बताया कि वे रात को चोरी कितने भी बजे करें। भागते सुबह करीब साढ़े चार बजे थे। उस दौरान सड़कों पर पुलिस नहीं रहती है।