Home Delhi WHO के कोरोना पर लेकर जारी की बड़ी चेतावनी

WHO के कोरोना पर लेकर जारी की बड़ी चेतावनी

0
नई दिल्‍ली: दुनिया भर में कोरोना वायरस के मामले और कोरोना वायरस से होने वाली मौतें लगातार बढ़ रही हैं। तमाम प्रयासों के बावजूद कोरोना पर नियंत्रण नहीं हो पा रहा है। इस बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने चेतावनी दी कि अगर वायरस को नियंत्रित करने के लिए विश्व स्तर पर बड़े कदम नहीं उठाए गए तो हालात भयावक होंगे।

 

 

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि कोविड-19 से मरने वालों की संख्या बढ़कर 2 मिलियन हो सकती है। दुनिया में अब तक कोरोना के कारण होने वाली मौतों की संख्या 1 मिलियन के करीब है।डब्ल्यूएचओ की ओर से यह चेतावनी ऐसे समय में आई है, जब दुनिया में कोरोना की मृत्यु की संख्या एक मिलियन तक पहुंचने की आशंका है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा है कि यदि महामारी के खिलाफ लड़ाई में दुनिया के सभी देश एक साथ नहीं आते हैं, तो दस लाख से अधिक मौतों के जोखिम से इंकार नहीं किया जा सकता है।

 

 

डब्ल्यूएचओ के आपातकालीन कार्यक्रम के निदेशक माइकल रेयान ने एक वीडियो कांफ्रेंस में कहा, “10 लाख का आंकड़ा भयावह है और अगले 10 लाख के बारे में सोचने से पहले हमें इसके बारे में सोचने की जरूरत है कि क्या हम कोरोना से मौतों को रोकने के लिए सामूहिक कार्रवाई करने के लिए तैयार हैं?” यदि हम साथ मिलकर कार्रवाई नहीं करते हैं तो हां, हम दुर्भाग्य से बहुत अधिक मरने वालों की संख्या देखेंगे।”
विश्व स्तर पर अबतक 32 मिलियन मामलों की पुष्टि के साथ वायरस संक्रमण बढ़ रहा है। सर्दी के दृष्टिकोण के रूप में उत्तरी गोलार्ध में कई देशों में कोरोना वायरस संक्रमण के दूसरे उछाल की शुरुआत देखी गई है।
वैश्विक कोरोना वायरस हॉटस्पॉट क्या हैं?
अब तक, अमेरिका, भारत और ब्राजील में सबसे अधिक मामलों की पुष्टि की है। लेकिन हाल के दिनों में पूरे यूरोप में संक्रमण का पुनरुत्थान हुआ है, जो महामारी की पहली लहर की ऊंचाई पर लगाए गए लोगों के समान राष्ट्रीय लॉकडाउन की चेतावनी देता है।
उन्होंने यूरोपीय लोगों से खुद से यह पूछने का आग्रह किया कि क्या उन्होंने लॉकडाउन की आवश्यकता से बचने के लिए पर्याप्त काम किया है और क्या परीक्षण, क्‍वारंटीन और सोशल डिस्‍टेंसिंग जैसे विकल्पों को लागू किया गया था। देश के शीर्ष संक्रामक रोग विशेषज्ञ डॉक्‍टर एंथोनी फौसी ने कहा कि अमेरिका में महामारी की पहली लहर अभी खत्म नहीं हुई है, क्योंकि प्रारंभिक प्रकोप के बाद से संक्रमण पर्याप्त रूप से कम नहीं हुए हैं।