Home MadhyaPradesh अस्पताल से चुराया गया बच्चा थाना परिसर में मिला, नवजात को निहार...

अस्पताल से चुराया गया बच्चा थाना परिसर में मिला, नवजात को निहार भावुक हुई मां

0
नेशनल एक्सप्रेस,
इंदौर (मप्र), हैरान करने वाले घटनाक्रम में शुक्रवार सुबह यहां एक थाने के परिसर में नवजात बच्चा लावारिस हालत में मिला। परिजनों ने इस नवजात की पहचान उस बच्चे के रूप में की है जिसे नर्स के भेष में आई अज्ञात महिला ने एक सरकारी अस्पताल से पांच दिन पहले चुराया था।

संयोगितागंज थाने के प्रभारी राजीव त्रिपाठी ने पीटीआई-भाषा से कहा, “सीसीटीवी फुटेज में दिखाई दे रहा है कि शुक्रवार सुबह सात बजे के आस-पास एक महिला नवजात बच्चे को हमारे थाने के परिसर में जमीन पर रखकर बाहर निकल रही है।”

त्रिपाठी ने कहा, “हुलिया के मिलान के बाद हमें संदेह है कि यह वही महिला है जिसने नर्स बनकर रविवार शाम शासकीय यशवंतराव चिकित्सालय से एक नवजात बच्चा चुराया था। हमें लगता है कि मामले में पुलिस के बढ़ते दबाव से भयभीत होकर वह अगवा बालक को थाना परिसर में छोड़कर भाग गई।”

उन्होंने कहा कि कुछ सुरागों के आधार पर इस फर्जी नर्स की तलाश की जा रही है और उम्मीद है कि पुलिस आरोपी तक जल्द पहुंच जाएगी। नवजात बालक के अपहर्ता की गिरफ्तारी पर 10,000 रुपये का इनाम पहले से घोषित है।

थाना प्रभारी ने कहा, “रानी भियाने नामक महिला ने अस्पताल से अपने बच्चे के अपहरण का मामला दर्ज कराया था। हम कानूनी प्रक्रिया के तहत इस महिला और थाना परिसर में मिले बच्चे का डीएनए टेस्ट कराएंगे ताकि वैज्ञानिक रूप से पुष्टि हो सके वे आपस में मां-बेटे हैं।”

इस बीच, थाना परिसर में मिले पांच दिन के बालक को शासकीय यशवंतराव चिकित्सालय में नवजात बच्चों की गहन चिकित्सा इकाई (एनआईसीयू) में भर्ती कराया गया है। सोशल मीडिया पर कुछ तस्वीरें वायरल हो रही हैं जिनमें भियाने एनआईसीयू के भीतर नवजात बालक को भावुक मुद्रा में निहारती नजर आ रही हैं।

भियाने के पति लोकेश ने कहा, “मेरी पत्नी ने एनआईसीयू में भर्ती नवजात बच्चे की अपनी संतान के रूप में पहचान की है।” उन्होंने कहा, “हम अपना बच्चा वापस मिलने से बेहद खुश हैं। बच्चा चोरी होने के बाद मेरी पत्नी का रो-रोकर बुरा हाल था।”

अधिकारियों ने बताया कि रानी भियाने ने अस्पताल में रविवार सुबह पांच बजे बालक को जन्म दिया था। उनके मुताबिक नर्स के भेष में आई महिला रविवार शाम छह बजे के आस-पास जच्चा के परिजनों को यह झांसा देकर बालक को अपने साथ ले गई कि नवजात की धड़कन धीमी पड़ गई है और वह उसे जांच के लिए ले जा रही है।