Home Bihar सिंबल से वंचित रखा, जरूरत पड़ी तो पहुंच गए समर्थन मांगने!

सिंबल से वंचित रखा, जरूरत पड़ी तो पहुंच गए समर्थन मांगने!

0
नेशनल एक्सप्रेस ब्यूरो,
बिहार:बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के परिणाम आ चुके हैं।इस बार भी बिहार विधानसभा चुनाव में एनडीए को बहुमत प्राप्त हुआ है।वहीं इस बार के बिहार के 17वीं विधानसभा में एनडीए को जनादेश मिलने के बावजूद अभी तक सरकार बनाने को लेकर जद्दोजहद चल रही है।
इस बीच सरकार बनाने को लेकर विधानसभा चुनाव में एक मात्र निर्दलीय चुनाव जीते उम्मीदवार सुमित सिंह शुक्रवार को सीएम आवास पर पहुंचे हैं।उनकी सीएम के साथ मुलाकात हो रही हैं।सुमित सिंह के साथ अशोक चौधरी भी सीएम आवास पहुंचे हैं।
जानकारी हो कि जमुई जिले के चकाई विधानसभा से निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में सुमित कुमार सिंह ने बाजी मारी है। सुमीत सिंह पूरे बिहार में एकमात्र ऐसे उम्मीदवार हैं, जिन्होंने निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर बाजी मारी है। सुमित सिंह ने राजद,जेडीयू और लोजपा समेत तमाम पार्टियों के उम्मीदवारों को जोरदार झटका देते हुए चुनाव जीता हैं।
मालूम हो कि इस बार के विधानसभा चुनाव में नीतीश कुमार के करीबी कहे जाने वाले मुंगेर सांसद ललन सिंह के कहने पर उनका टिकट काट दिया गया था इस जगह पर ललन सिंह के दुलरुआ कहे जाने वाले संजय सिंह सिंह को जदयू से टिकट दिया गया था।
संजय सिंह राजद छोड़कर जदयू में आए थे लेकिन उनको सुमित सिंह के से मुंह की खानी पड़ी। हालांकि चुनाव जीतने के बाद सुमित सिंह को मनाने का कोशिश एक बार फिर से किया जा रहा है।इसको लेकर अशोक चौधरी को लगाया गया है क्योंकि राजनीतिक जानकारों का कहना है कि यदि इस काम के लिए ललन सिंह को लगाया जाता तो बात जदयू के पाले में नहीं आती।