Home Delhi इंडोनेशिया में स्वामी विवेकानंद की प्रथम मूर्ति का अनावरण

इंडोनेशिया में स्वामी विवेकानंद की प्रथम मूर्ति का अनावरण

0

नयी दिल्ली। कन्या कुमारी स्थित स्वामी विवेकानंद शिला स्मारक की स्वर्ण जयन्ती के अवसर पर बाली, इंडोनेशिया में एक इतिहास लिखा गया। सीनेटर डा़ श्री आई़ गुस्ती नगुराह आर्य वेदाकर्णा महेन्द्रदन्ता वेदासत्रपुतरासूयाशा तृतीय, इंडोनेशिया में भारत के राजदूत श्री प्रदीप कुमार रावत और स्वामी विवेकानंद सांरकृतिक केन्द्र, बाली के निदेशक श्री मनोहर पुरी ने स्वामी विवेकानंद की मूर्ति का बाली में अनावरण किया। इंडोनेशिया में ही नहीं संभवत दक्षिण- पूर्वी एशिया में स्वामी जी की यह प्रथम प्रतिमा स्थापित हुई है। बाली में स्वामी विवेकानंद को भारतीय मूल्यों का प्रतीक माना जाता है। इस अवसर पर मूर्तिकार आई वयान आगुस वीरात्मा को भी सम्मानित किया गया। मूर्ति के निर्माण एवं स्थापना में सुकर्णो केन्द्र का सक्रिय सहयोग एवं योगदान रहा।़ इस अवसर पर बाली में भारत के प्रधान कोंसुल जनरल श्री प्रकाश चंद भी उपस्थित थे। इस अवसर पर श्री वेदाकर्णा ने कहा कि जो भी युवक इस मूर्ति को देखेगा अथवा इसमें सामने से गुजरेगा उसके भीतर एक नवीन उर्जा का संचार होगा क्योंकि स्वामी जी युवा शक्ति की प्रतिमूर्ति थे। उन्होंने कहा कि इंडोनेशिया के प्रथम राष्ट्रपति श्री सुकर्णें कहा करते थे कि स्वामी विवेकानंद एक असाधारण भारतीय थे जिनसे भारत और इंडोनेशिया ही नहीं विश्व के हर युवक को प्रेरण लेनी चाहिए। इस मूर्ति की स्थापना में श्री मनोहर पुरी एवं श्री वेदाकर्ण के संयुक्त प्रयासों की प्रशंसा करते हुए भारतीय राजदूत महामहिम श्री प्रदीप रावत ने कहा िकइस प्रतिमा से दोनों देशों के संबंध प्रगाढ़ होंगो इसमें कोई सन्देह नहीं। स्वामी विवेकानंद सांस्कृतिक केन्द्र निदेशक श्री मनोहर पुरी ने अपने स्वागत भाषण में श्री वेदाकर्ण का विशेष रूप् से धन्यवाद करते हुए कहा कि एक सचचे क्षत्रिय की भांति उन्होंने अपना वचन निभाया जिसके फलस्वरूप आज इस मूर्ति की स्थापना हो सकी है।