Home National इंटरनेशनल लीडरशिप कॉन्फ्रेंस (ILC) 2020 का आयोजन

इंटरनेशनल लीडरशिप कॉन्फ्रेंस (ILC) 2020 का आयोजन

0

एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया के पूर्व प्रेजिडेंट आलोक मेहता (पद्मश्री) बतौर वक्ता शामिल हुए

नयी दिल्ली। यूनिवर्सल पीस फेडरेशन’ (UPF)-एशिया पैसिफिक की ओर से 11 से 13 सितंबर के बीच ‘इंटरनेशनल लीडरशिप कॉन्फ्रेंस’ (ILC) 2020 का आयोजन किया गया। वर्चुअल रूप से हुए इस कार्यक्रम के तहत 12 सितंबर को ‘media s role in Kovid crisis and Conflicts in Asia Pacific’ विषय पर दुनिया भर के वरिष्ठ पत्रकारों ने अपने विचार रखे। कार्यक्रम में भारत की ओर से वरिष्ठ पत्रकार और एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया के पूर्व प्रेजिडेंट आलोक मेहता (पद्मश्री) बतौर वक्ता शामिल हुए।
इस मौके पर आलोक मेहता का कहना था,’ मुझे अब भी याद है जब वर्ल्ड मीडिया एसोसिएशन ग्लोबल मीडिया में शांति, समृद्धि और वैश्विक मूल्यों को बढ़ावा देने के लिए वाशिंगटन में 1997-98 में यूपीएफ के साथ आगे आई थी। अब कोविड-19 के दौरान हमें वैश्विक समाज को बचाने के लिए उस मिशन के तहत और ज्यादा काम करने की जरूरत है।’ उन्होंने कहा, ‘यह एक निर्विवाद सच है कि आज की समय में पत्रकारिता काफी चुनौतीपूर्ण है और सफल होने के लिए इसमें काफी ठोस प्रयासों को करने की जरूरत है। पत्रकारिता समाज का चौथा स्तंभ है। जिस तरह सरकार और प्रशासन व्यक्ति के दैनिक क्रियाकलापों के इर्द-गिर्द घूमते हैं, उसी तरह पत्रकार से भी इसी तरह की उम्मीद की जाती है। पत्रकारिता का मुख्य उद्देश्य विभिन्न मुद्दों पर जनता को सूचित करना, शिक्षित करना और उन्हें जागरूक करना है। कम्युनिकेशन टेक्नोलॉजी खासकर इंटरनेट में आए क्रांतिकारी बदलावों ने लोगों को पूरी दुनिया के बारे में जानने-समझने के प्रयासों को काफी सुविधा प्रदान कर दी है। ऐसे में मीडिया को सच, सटीकता, निष्पक्षता और समाज के प्रति अपनी जवाबदेही के सिद्धांतों को बनाए रखना है।’
आलोक मेहता का यह भी कहना था, ‘मुझे लगता है कि मीडिया को अधिक जिम्मेदार होना चाहिए और सामाजिक मूल्यों को बढ़ावा देने के लिए नैतिकता का पालन करना चाहिए। ऐसे में यूपीएफ मीडिया फोरम विभिन्न देशों के पत्रकारों के बीच बेहतर सामंजस्य पैदा कर सकता है। भगवान बुद्ध के शांति और करुणा के संदेश ने हम सभी को जोड़ा है। हम सब देशों ने मिलकर मानव सभ्यता में बहुत योगदान दिया है। हमने शक्ति की सीमाएं भी देखी हैं और आपसी सहयोग का फल भी देखा है।’
आखिर में आलोक मेहता का यह कहना था, ‘मैं चाहता हूं और आशा है कि यह अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन दुनिया भर में एक साथ काम करने और भविष्य की पीढ़ियों को बचाने के लिए एक बहुत ही सकारात्मक फलदायी संदेश देगा।’
कार्यक्रम में ‘IMAP एशिया पैसिफिक’ के रीजनल को-ऑर्डिनेटर Dr. Robert S Kittel, ‘नेपाल रिपब्लिक मीडिया’ की डायरेक्टर Shova Gyawali, ‘The Segye Times’ साउथ कोरिया के प्रेजिडेंट और सीईओ Hee Taeg Jung, ‘Sekai Nippo’ जापान के प्रेजिडेंट Masahiro Kuroki, किंगडम ऑफ कंबोडिया के सूचना मंत्री H.E. Khieu Kanharith, ‘Fiji Time Magazine’ फिजी की पब्लिशर और एडिटर-इन-चीफ नाजिया अली (Naziah Ali), ‘Hong Kong Radio Free Asia’ (USA) के पूर्व चीफ करेंसपॉन्डेंट Zhu Xing Qing, एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया के पूर्व प्रेजिडेंट व वरिष्ठ पत्रकार (पद्मश्री) आलोक मेहता, ‘Eurasia News Group’ किर्गिजस्तान के फाउंडर Vasilii Fokin, ‘The Washington Times’ (USA) के चेयरमैन Thomas P Mc. Devitt और ऑस्ट्रेलिया के पॉलिटिकल कमेंटेटर John Ruddick मौजूद रहे।