Home UTTARAKHAND केएलडीएवी, मैथोडिस्ट, जीआईसी बिझौली में मना हिंदी दिवस

केएलडीएवी, मैथोडिस्ट, जीआईसी बिझौली में मना हिंदी दिवस

0

नेशनल एक्सप्रेस ब्यूरो रूडकी। शिक्षण संस्थानो में सोमवार को हिंदी दिवस का आयोजन किया गया। इस दौरान छात्रों, शिक्षकों को हिंदी दिवस का महत्व समझाने के साथ ही मातृ भाषा को अपनाने पर भी जोर दिया गया। केएलडीएवी इंटर कालेज में वेबीनार मीट के माध्यम से हिंदी दिवस कार्यक्रम आयोजित हुआ। कार्यक्रम की शुरूआत संस्था के कुलगीत से हुई। कार्यक्रम अध्यक्ष डा. डीबी गोयल, विशिष्ट अतिथी मालवीय नेशनल इंस्ट्टियूट आॅफ टेक्नोलाॅजी जयपुर के सेवानिवृत्त डीन डा. अशोक शर्मा व साहित्यकार नरेश राजवंशी रहे। तीनों अतिथियों ने शिक्षकों, छात्रों को हिंदी का महत्व बताया। कहा कि हिंदी देश की मातृ भाषा है और किसी भी देश की पहचान उसकी भाषा और संस्कृति से ही होती है। इसलिए हमें अपनी मातृभाषा को अपनाने पर जोर देना चाहिए। प्रधानाचार्य मनोज सैनी ने अतिथियों का स्वागत किया। इस अवसर पर विद्यालय के हिंदी अध्यापक महेश चंद्र तायल भी मौजूद रहे। कार्यक्रम का आॅनलाईन संचालन संयोजक शिव कुमार ने किया। राजकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय बिझौली में हिंदी दिवस पर बोर्ड परीक्षा में 80 प्रतिशत या इससे अधिक अंक लाने वाले व बाल कवियो को सम्मानित किया गया। प्रधानाचार्य नीरज नैथानी व कार्यक्रम संयोजक अशोक पाल ने आॅनलाईन छात्रों को सम्मान पत्र भेजे। प्रधानाचार्य नीरज नैथानी ने कहा कि ंिहंदी विश्व की तमाम भाषाओ में सबसे सरल एवं प्रभावी भाषा है। सभी को इसे अपनाने पर जोर देना चाहिए। हिंदी बोलने, लिखने और पढ़ने सभी में सरल है।
संयोजक एवं कार्यक्रम प्रभारी अशोक पाल ने बोर्ड परीक्षा में हिंदी में 80 प्रतिशत या इससे अधिक अंक लाने वाले छात्रों का हौंसला बढ़ाते हुए कहा कि मेहनत और लगन से हर कार्य संभव है। जीवन में कभी हार नहीं माननी चाहिए। कोरोना संकट के बीच छात्रों की पढ़ाई प्रभावित हुई है, लेकिन छात्रों को आॅनलाईन कोचिंग जारी रखते हुए निरंतर मेहनत करनी चाहिए। उन्होने छात्रों को कोरोना से बचाव एवं सरकार द्वारा जारी गाइड़लाइंस की भी जानकारी दी। साथ ही छात्रों से कोरोना लक्षणों, मास्क के प्रयोग एवं सोशल डिस्टेसिंग के पालन को लेकर दूसरों को भी जागरूक किए जाने की बात कही। बाल कवियों की रचनाए प्रकाशित होने पर कार्यक्रम में उन्हे भी सम्मनित किया गया। इसमें टीना, साक्षी, वंदना, बाल कवि फरदीन, नदीम, सुधीर, मेहरबान, रूपेश, सादिक आदि को सम्मानित किया गया। मैथोडिस्ट गल्र्स पीजी कॉलेज में हिंदी विभाग की ओर से आॅनलाईन हिंदी दिवस का आयोजन किया गया। विभागाध्यक्ष डॉ अनुपमा वर्मा ने कोविड-19 को ध्यान में रखते हुए कॉलेज में हिंदी दिवस पर ऑनलाइन पोस्टर, कविता पाठ, स्लोगन आदि प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। छात्राओं ने कोविड-19 पर सावधानियों को ध्यान में रखते हुए घर में ही सुरक्षित रह कर प्रतियोगिता में प्रतिभाग किया। कार्यक्रम में विजेता छात्रों को प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया गया। पोस्टर प्रतियोगिता में सानिया ने बाजी मारी। पूजा रानी दूसरे व नीरू बीए तृतीय स्थान पर रही। छात्रा लक्ष्मी को सांत्वना पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया। कविता पाठ में अक्षी गौड, थर्ड सेमेस्टर में राजश्री द्वितीय व शिवानी बिष्ट बीएससी तृतीय स्थान पर रही। वही स्लोगन प्रतियोगिता में शिवानी ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। आंचल ने द्वितीय व पूर्वी सेन तृतीय स्थान हांसिल किया। कॉलेज प्रबंधिता मिस जे सिंह और प्राचार्य डॉ अमिता श्रीवास्तव ने संयुक्त रूप से कार्यक्रम का शुभारंभ किया। दोनों ने छात्राओं का हौंसला बढ़ाते हुए उन्हे पुरस्कृत किया और छात्राओं द्वारा किए गए कार्यक्रमों की सराहना की। मिस जे सिंह व डा. अमिता श्रीवास्तव ने छात्राओं, शिक्षिकाओं से हिंदी को अपनाने और हिंदी में ही सब काम किए जाने की भी बात कही। इस अवसर पर शिक्षिका डा. पायल अग्रवाल, डा. सिलोनी गुप्ता डॉ नीतू डॉ अमिता शर्मा डॉ सोनाली सेठी, डॉ कोमल, मीरा पहावा, डा. पुष्पांजलि अंकिता सेठी मम्मी कोमल पाल, ज्योति वत्स, आरिफ उपस्थित रही।