Home Rajasthan पिपली मंडी कुरुक्षेत्र हरियाणा लाठीचार्ज मामला ...

पिपली मंडी कुरुक्षेत्र हरियाणा लाठीचार्ज मामला किसानों पर अमानवीय लाठीचार्ज का कोटा के किसान नेताओं ने में भी किया विरोध

0

नेशनल एक्सप्रेस ब्यूरो
कोटा ।
हाडौती किसान आंदोलन के संयोजक कुन्दन चीता ने बताया कि जब सरकार कोरोना काल मैं शांतिपूर्ण ढंग से और न्याय संगत तरीके से काले कानून के खिलाफ किसानों की रैली पर जो लाठीचार्ज किया वह देश के अन्नदाता का अपमान है । ऐसी तानाशाही सरकार जिस के कार्यकाल में क्या किसी को विरोध करने का हक नहीं जो अध्यादेश किसान विरोधी है उस काले अध्यादेश का किसान को न्याय संगत विरोध करने का अधिकार भी नही है । किसान नेता कुंदन चिता ने आगे कहा कि कोरोना काल में आप अध्यादेश ला सकते हो तो क्या कोरोना काल में किसान इसका विरोध नहीं करेंगे । सरकार द्वारा लाए हुए तीनों अध्यादेश सीधा सीधा कॉर्पोरेट क्षेत्र को फायदा पहुंचाते हैं ना कि देश के किसान को आपके अध्यादेश किसान को कभी आत्मनिर्भर नहीं बना रहे यह अध्यादेश किसान को कॉर्पोरेट पर निर्भर बना रहे हैं आप कानून बनाइए सरकारी मंडियों में कोई भी फसल एमएसपी से नीचे नहीं खरीदी जाएगी आप इस बात को टाल कर इसकी जगह प्राइवेट मंडिया बना रहे हो उसमें किसान का शोषण होगा और शोषण उस तरह से होगा जिस सरकारी और प्राइवेट मंडियों का किसानों के लिए किसान को उसी मंडी में फसल का उचित मूल्य चाहिए आपने हर क्षेत्र में निजी करण कर चुके हो सिर्फ किसान का और किसान की जमीनों का निजीकरण आप तीनो अध्यादेश के तहत करने जा रहे हो जो किसान और देश के लिए एक काला कानून है