Home Bihar राजद के घोषणा पत्र में 10 लाख सरकारी नौकरी का वादा :...

राजद के घोषणा पत्र में 10 लाख सरकारी नौकरी का वादा : तेजस्वी बोले- सभी को मिलेगी पक्की नौकरी

0
नेशनल एक्सप्रेस
पटना, राजद नेता तेजस्वी यादव ने शनिवार को पार्टी के घोषणा पत्र में 10 लाख सरकारी नौकरी देने का वादा दोहराते हुए एक ऐसे बेहतर बिहार के निर्माण के लिए लोगो का आह्वान किया जहां लोगों को शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार के लिये राज्य से पलायन करने की जरूरत न पड़े।

राजद के घोषणा पत्र को ‘प्रण हमारा, संकल्प बदलाव का’ नाम दिया गया है। पार्टी ने 10 लाख सरकारी नौकरी देने का वादा दोहराया और कृषि ऋण माफ करने की बात की है। घोषणापत्र में कृषि, उद्योग और शिक्षा को प्रमुखता दी गई है।

राष्ट्रीय जनता दल के घोषणापत्र के कवर पेज पर महात्मा गांधी, संविधान निर्माता बाबा साहब भीमराव अंबेडकर, स्वतंत्रता सेनानी मौलाना अबुल कलाम आजाद, समाजवादी नेता राममनोहर लोहिया एवं कर्पूरी ठाकुर, लोकनायक जयप्रकाश नारायण सहित अन्य लोगों के चित्र हैं किंतु पार्टी के संस्थापक एवं करिश्माई नेता लालू प्रसाद की तस्वीर नहीं है । मुख्य पृष्ठ पर तेजस्वी यादव का चित्र प्रमुखता से है।

राजद के घोषणापत्र के दस्तावेज मे हालांकि लालू प्रसाद का संदेश है जिसमें सामाजिक न्याय सुनिश्चित करने और कमजोर तबकों के उत्थान के लिये उनकी सरकार के संषर्घो एवं कार्यों का उल्लेख किया गया है । लालू प्रसाद करोड़ों रूपये के चारा घोटाले से जुड़े मामले में फिलहाल जेल में हैं ।

बहरहाल, पार्टी मुख्यालय में तेजस्वी यादव ने महागठबंधन को जनादेश देने की अपील करते हुए कहा, ‘‘आइये हम मिलकर अपनी पीढ़ी और अपनी आने वाली पीढ़ी के लिये एक ऐसे बेहतर बिहार का निर्माण करें जहां शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार के लिये पलायन करने की जरूरत न पड़े।’’

उन्होंने संवाददााओं से कहा, ‘‘ हम 10 लाख सरकारी नौकरी देंगे।’’ राजद नेता ने कहा कि सभी को पक्की नौकरी मिलेगी और एक जैसे काम के लिए सभी को एक जैसा वेतन मिलेगा।

भाजपा के 19 लाख नौकरियां देने के वादे पर तंज करते हुए राजद नेता ने कहा, ‘‘भाजपा बताए कि उनका मुख्यमंत्री पद का चेहरा कौन है? उनका मुख्यमंत्री पद का चेहरा नीतीश कुमार है। नीतीश जी ने तो पहले ही 10 लाख नौकरियों पर हाथ खड़े कर दिए, अब भाजपा कैसे 19 लाख नौकरियां देगी? ’’

तेजस्वी यादव ने आरोप लगाया कि नौकरी देने के नाम पर भाजपा ‘‘लोगों को बेवकूफ बना रही है।’’
महागठबंधन के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार ने कहा कि उन्होंने तार्किक आधार पर 10 लाख नौकरियों का वादा किया है क्योंकि 4.5 लाख पद तो रिक्त पड़े हैं।

नौकरियों के लिये पैसे के बारे में नीतीश कुमार के बयान पर तेजस्वी ने कहा कि बिहार का बजट 2.5 लाख करोड़ रूपये है और इसमें से नीतीश कुमार की सरकार सिर्फ़ 60 प्रतिशत बजट का हिस्सा ही ख़र्च कर पाती है। उन्होंने कहा कि 40 प्रतिशत राशि बिना खर्च रह जाती है जो 80 हजार करोड़ रूपये बनता है।

उन्होंने कहा, ‘‘क्या बाकी बचे धन को भी जनकल्याण व अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए कोई योग्य व तत्पर सरकार सदुपयोग नहीं कर पाएगी?’’ राजद के संकल्प में कहा गया है, ‘‘ राजद का संकल्प-समग्र विकास एकमात्र विकल्प। आओ मिलकर कदम बढ़ाएँ, तेजस्वी संग नया बिहार बनाएँ।’’

घोषणापत्र में किसानों के फसलों की खरीद बोनस के साथ न्यूनतम समर्थन मूल्य पर करने के साथ सरकार बनने पर कृषि ऋण माफ करने की बात भी कही गई है। राजद ने वादा किया है कि सभी सरकारी स्कूलों में अभियान चलाकर युद्ध स्तर पर अध्यापकों की भर्ती की जायेगी और सभी रिक्त पदों को प्राथमकिता के आधार पर भरा जायेगा।

इसमें कहा गया है कि राज्य के बजट में शिक्षा बजट का हिस्सा 22 प्रतिशत होगा।राजद ने अपने घोषणापत्र में कहा है कि राज्य में पूंजी निवेश और उद्योगों को प्रोत्साहन देने के लिये मास्टर प्लान बनाने के साथ रियायती दर पर जमीन देने और कर छूट की व्यवस्था की जायेगी।

इसमें कहा गया है कि हर पंचायत में ग्रामीणों के लिये नि:शुल्क कम्प्यूटर केंद्र बनाया जायेगा। घोषणापत्र में कहा गया है कि राज्य में विश्वस्तरीय खेल विश्वविद्यालय की स्थापना की जायेगी।

नियोजित शिक्षकों को वेतनमान कार्यपालक सहायकों, लाइब्रेरियन, उर्दू शिक्षकों की बहाली की जाएगी राज्य के मूल निवासी युवाओं के भी सरकारी बहाली परीक्षाओं में फॉर्म निशुल्क होंगे तथा राज्य में गृह जिला से परीक्षा केंद्र तक की यात्रा मुक्त होगी ।