Home Bollywood सिंगर एसपी बालासुब्रमण्यम का निधन, दो महीने पहले हुए थे कोरोना पॉजिटिव

सिंगर एसपी बालासुब्रमण्यम का निधन, दो महीने पहले हुए थे कोरोना पॉजिटिव

0
सिंगर एसपी बालासुब्रमण्यम का शुक्रवार को निधन हो गया. वो 74 साल के थे. फिल्ममेकर वेंकट प्रभु ने सोशल मीडिया पर एसपी बालासुब्रमण्यम को श्रद्धांजलि अर्पित की है. सिंगर एसपी बालासुब्रमण्यम का शुक्रवार को निधन हो गया. वो 74 साल के थे. उनके निधन से एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में शोक की लहर है. बता दें कि बीते कुछ दिनों से उनकी की तबियत ठीक नहीं थी. उन्हें लाइफ सपोर्ट पर रखा गया था. एसपी 5 अगस्त को कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे, जिसके बाद उन्हें चेन्नई के प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया गया था. 13 सितंबर को उनका कोरोना टेस्ट निगेटिव पाया गया था. मालूम हो कि एसपी बालासुब्रमण्यम ने सोशल मीडिया पर वीडियो शेयर कर बताया था कि उनमें कोरोनावायरस के हल्के लक्षण थे. इसके बाद उन्होंने टेस्ट करवाया था और टेस्ट पॉजिटिव निकला. डॉक्टर्स ने उन्हें होम क्वारनटीन की सलाह दी थी. लेकिन वे हॉस्पिटल में भर्ती हो गए थे. 13 अगस्त को उनकी हालत ज्यादा बिगड़ गई थी जिसके बाद उन्हें वेंटिलेटर सपोर्ट पर रखना पड़ा था. हालांकि 13 सितंबर को एसपी की कोरोना टेस्ट रिपोर्ट नेगेटिव आ गई थी.
सलमान की बने थे आवाज:- एसपी बालासुब्रमण्यम ने हिंदी सिनेमा को एक से बढ़कर गाने दिए हैं. उनके कई गाने सलमान खान के ऊपर फिल्माए गए हैं. जैसे- पहला-पहला प्यार है, मेरे रंग में रंगने वाली, दिकताना-दिकताना, मेरे जीवन साथी, मुझसे जुदा होकर, आजा शाम होने आई, हम बने तुम बने, वाह वाह रामजी.

 

 

 

 

हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में इस फिल्म के गानों ने दिलाई पहचान

हिंदी फिल्मों के लिए उन्होंने सबसे पहला गाना ‘एक दूजे के लिए’ (1981) के लिए गाया था. हालांकि सलमान खान की फिल्म ‘मैंने प्यार किया’ उनके लिए ग्राउंडब्रेकिंग साबित हुई. 60 के दशक में बतौर सिंगर आने वाले बालासुब्रमण्यम ने सलमान खान के लिए कई बेहतरीन गानों को गाया. लेकिन वो एक गाना जिसने सभी का दिल एक बारी में जीत लिया वो था- “आया मौसम दोस्ती का” फिल्म मैंने प्यार किया का ये गाना सुपरहिट था. इसी फिल्म के एक गीत ‘दिल दीवाना’ के लिए एस पी को फिल्मफेयर अवॉर्ड मिला था. फिल्म के अन्य गीत, जैसे आते जाते, कबूतर जा जा, आजा शाम होने आई, मेरे रंग में रंगने वाली और टाइटल सॉंन्ग (मैंने प्यार किया) में भी एस पी ने अपनी आवाज का जादू बिखेरा था. इस गीत का ‘तुरू रूरू रूरू रूरूरूरू’ एस पी की आवाज का एक ‘सिंबल’ बन गया था.

 

 

 

इन अवॉर्ड्स से नवाजे गए बालासुब्रमण्यम 
बालासुब्रमण्यम को प्लेबैक सिंगिंग के लिए छह बार नेशनल फिल्म अवॉर्ड्स मिल चुके हैं. ये सभी अवॉर्ड्स उन्हें हिंदी, तमिल, तेलुगू और कन्नड़ भाषा में गाने के लिए मिले हैं. इसके अलावा बॉलीवुड फिल्मफेयर अवॉर्ड से भी नवाजे जा चुके हैं. इसके अलावा उन्हें पद्म श्री, पद्म भूषण जैसे अवॉर्ड्स से भी नवाजा जा चुका है.

 

 

 

बारह घंटों में 21 गाने रिकॉर्ड करने का बनाया रिकॉर्ड:- इतना ही नहीं एक बार में 21 गानों को रिकॉर्ड करने का रिकॉर्ड भी बाला के नाम है. साउथ इंडिया के संगीतकार उपेन्द्र कुमार के लिए उन्होंने एक ही दिन नहीं बल्कि सिर्फ बारह घंटों में 21 गीत रिकॉर्ड करने का रिकॉर्ड बना दिया था.

 

 

16 भाषाओं में गाए 40 हजार गाने
60 के दशक में अपने सिंगिंग करियर की शुरुआत करने वाले बालासुब्रमण्यम ने अभी तक कई गाने गाए हैं और फैन्स के दिलों में जगह बनाई है. असल में बताएं तो एस पी को खुद नहीं पता कि उन्होंने कितने गीत गाए हैं. मगर माना जाता है कि ये संख्या 40 हजार के करीब है, जो अपने आप में एक रिकॉर्ड है. इसे गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी दर्ज किया जा चुका है. ये 40 हजार गाने उन्होंने लगभग 16 भाषाओं में गाए हैं.