Home Jharkhand आपसी समन्वय स्थापित करते हुए तालाबों के सौंदर्यीकरण और प्रदूषण मुक्त बनाने...

आपसी समन्वय स्थापित करते हुए तालाबों के सौंदर्यीकरण और प्रदूषण मुक्त बनाने की दिशा में करें कार्यः-उपायुक्त

0
नेशनल एक्सप्रेस ब्यूरो,
झारखंड:देवघर के उपायुक्त-सह-जिला दण्डाधिकारी कमलेश्वर प्रसाद सिंह की अध्यक्षता में नेशनल ग्रीन ट्रब्यूनल (एनजीटी) से संबंधित तालाबो के सौंदर्यीकरण, प्रदूषणमुक्त हेतु प्रखंडस्तर पर किये जा रहे कार्यो की समीक्षा बैठक का आयोजन समाहरणालय सभागार में किया गया।
इस दौरान उपायुक्त द्वारा माननीय नेशनल ग्रीन ट्रब्यूनल से प्राप्त निर्देशानुसार देवघर जिलान्तर्गत तालाबो का जीर्णोद्धार व प्रदूषण मुक्त किये जाने को लेकर किये जा रहे कार्यों एवं जल संग्रहण आदि कार्यो की अद्यतन स्थिति से अवगत हुए।साथ हीं उपायुक्त द्वारा तालाबों के नमूना संग्रहण के संबंध में सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी को निदेशित किया गया कि जितने भी नमूनों का संग्रहण किया जा रहा है सभी पर प्रखंडवार एक कोड अंकित किया जाएगा,उसके पश्चात जिला में आने पर जिला का भी कोड सबंधित अधिकारी द्वारा अंकित कराया जाएगा।
ऐसे में नमूनों पर कोड अंकित करने के संदर्भ में उपायुक्त द्वारा संबंधित सभी अधिकारियों को निदेशित किया गया कि कोड लिखते समय सर्वप्रथम जिले का नाम होगा जो कि जिले के नाम का तीन अक्षर होगा,उसके उपरांत प्रखंड का नाम होगा वो भी शुरू का तीन अक्षर,उसके उपरांत पंचायत का नाम होगा वो भी शुरू का तीन अक्षर,इसके उपरांत थाना/मौजा का संख्या,अंत मे क्रम संख्या जो कि अधिकतम चार अंक का होगा।इस तरह से प्रत्येक संग्रहित नमूना पर विशेष कोड अंकित कर पेयजल एवं स्वच्छता विभाग को उपलब्ध कराया जाएगा,ताकि उपरोक्त कार्य दिनांक- 04.11.2020 तक पूर्ण कर लिया जा सके।
वहीं पेयजल एवं स्वच्छता विभाग द्वारा सभी संग्रहित नमूनों का जांच कर जांच रिपोर्ट उपायुक्त कार्यालय को,जिला में नामित जिला तालाब पदाधिकारी को एवं संबंधित प्रखंड विकास पदाधिकारी को उपलब्ध कराया जाएगा।इसके अलावे बैठक के दौरान उपायुक्त कमलेश्वर प्रसाद सिंह द्वारा संबंधित अधिकारियों को निदेशित किया गया कि प्राप्त रिपोर्ट के आधार पर प्रदूषित तालाबो की सूची में से प्रत्येक गांव से एक तालाब का चयन करते हुए उक्त तालाब को प्रदूषण मुक्त करते हुए उसका सौंदर्यीकरण किया जाना है ऐसे में संबंधित सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी एक रणनीति तैयार करें,ताकि उपरोक्त कार्य में कितना समय और राशि का खर्च होगा इस बात का भी आकलन करते हुए प्रगति प्रतिवेदन जिला के सबंधित अधिकारी को दिनांक- 07.11.2020 तक जिले के नामित अधिकारी को उपलब्ध कराया जाय,ताकि तय समय पर राज्य को रिपोर्ट भेजा जा सके।
बैठक में उपरोक्त के अलावे उपविकास आयुक्त संजय कुमार सिन्हा,प्रशिक्षु आईएएस संदीप कुमार मीणा,निदेशक जिला ग्रामीण विकास अभिकरण श्रीमती नयनतारा केरकेट्टा, कार्यपालक अभियंता पुनासी,कार्यपालक अभियंता लघु सिंचाई प्रमंडल,जिला मत्स्य पदाधिकारी,सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी के अलावा संबंधित अधिकारी आदि उपस्थित थे।